gale to lagana hai usse kaho abhi lag jaaye | गले तो लगना है उससे कहो अभी लग जाए - Tehzeeb Hafi

gale to lagana hai usse kaho abhi lag jaaye
yahi na ho mera uske baghair jee lag jaaye

main aa raha hoon tere paas ye na ho ki kahi
tera mazaak ho aur meri zindagi lag jaaye

agar koi teri raftaar maapne nikle
dimaagh kya hai jahaanon ki raushni lag jaaye

tu haath utha nahin saka to mera haath pakad
tujhe dua nahin lagti to shayari lag jaaye

pata karunga andhere mein kis se milta hai
aur is amal mein mujhe chahe aag bhi lag jaaye

hamaare haath hi jalte rahenge cigarette se
kabhi tumhaare bhi kapdon pe istree lag jaaye

har ek baat ka matlab nikaalne waalon
tumhaare naam ke aage na matlabi lag jaaye

classroom ho ya hashr kaise mumkin hai
hamaare hote teri ghair-haaziri lag jaaye

main pichhle bees baras se teri girift mein hoon
ke itne der mein to koi aayi jee lag jaaye

गले तो लगना है उससे कहो अभी लग जाए
यही न हो मेरा उसके बग़ैर जी लग जाए

मैं आ रहा हूँ तेरे पास ये न हो कि कहीं
तेरा मज़ाक़ हो और मेरी ज़िंदगी लग जाए

अगर कोई तेरी रफ़्तार मापने निकले
दिमाग़ क्या है जहानों की रौशनी लग जाए

तू हाथ उठा नहीं सकता तो मेरा हाथ पकड़
तुझे दुआ नहीं लगती तो शायरी लग जाए

पता करूँगा अँधेरे में किस से मिलता है
और इस अमल में मुझे चाहे आग भी लग जाए

हमारे हाथ ही जलते रहेंगे सिगरेट से?
कभी तुम्हारे भी कपड़ों पे इस्त्री लग जाए

हर एक बात का मतलब निकालने वालों
तुम्हारे नाम के आगे न मतलबी लग जाए

क्लासरूम हो या हश्र कैसे मुमकिन है
हमारे होते तेरी ग़ैर-हाज़िरी लग जाए

मैं पिछले बीस बरस से तेरी गिरफ़्त में हूँ
के इतने देर में तो कोई आई. जी. लग जाए

- Tehzeeb Hafi
56 Likes

Cigarette Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Tehzeeb Hafi

As you were reading Shayari by Tehzeeb Hafi

Similar Writers

our suggestion based on Tehzeeb Hafi

Similar Moods

As you were reading Cigarette Shayari Shayari