hamaari aankh se barsa hai ye kal raat ka paani | हमारी आँख से बरसा है ये कल रात का पानी - Varun Anand

hamaari aankh se barsa hai ye kal raat ka paani
samajh baithe ho jis ko aap bhi barsaat ka paani

sataati hi nahin usko kabhi phir pyaas ki shiddat
ki jo ik baar pee leta hai uske haath ka paani

chalo achha hua aansoo bhi mere pee gaye ye log
chalo kuchh kaam to aaya mere jazbaat ka paani

tumhaare vaaste bas naachne gaane ka mauqa hai
museebat hai hamaare vaaste barsaat ka paani

ye sehra hai yahan dariya samandar ki hi baatein hain
yahan matlab nikalta hai sabhi ki baat ka paani

हमारी आँख से बरसा है ये कल रात का पानी
समझ बैठे हो जिस को आप भी बरसात का पानी

सताती ही नहीं उसको कभी फिर प्यास की शिद्दत
कि जो इक बार पी लेता है उसके हाथ का पानी

चलो अच्छा हुआ आंसू भी मेरे पी गए ये लोग
चलो कुछ काम तो आया मेरे जज़बात का पानी

तुम्हारे वास्ते बस नाचने गाने का मौक़ा है
मुसीबत है हमारे वास्ते बरसात का पानी

ये सहरा है यहाँ दरिया समंदर की ही बातें हैं
यहाँ मतलब निकलता है सभी की बात का पानी

- Varun Anand
13 Likes

Neend Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Varun Anand

As you were reading Shayari by Varun Anand

Similar Writers

our suggestion based on Varun Anand

Similar Moods

As you were reading Neend Shayari Shayari