ye shokhiyaan ye jawaani kahaan se laayein ham | ये शोख़ियाँ ये जवानी कहाँ से लाएँ हम - Varun Anand

ye shokhiyaan ye jawaani kahaan se laayein ham
tumhaare husn ka saani kahaan se laayein ham

mohabbatein vo puraani kahaan se laayein ham
ruki nadi mein rawaani kahaan se laayein ham

hamaari aankh hai paivast ek sehra mein
ab aisi aankh mein paani kahaan se laayein ham

har ek lafz ke maani talashte ho tum
har ek lafz ka maani kahaan se laayein ham

chalo bata den zamaane ko apne baare mein
ki roz jhooti kahaani kahaan se laayein ham

ये शोख़ियाँ ये जवानी कहाँ से लाएँ हम
तुम्हारे हुस्न का सानी कहाँ से लाएँ हम

मोहब्बतें वो पुरानी कहाँ से लाएँ हम
रुकी नदी में रवानी कहाँ से लाएँ हम

हमारी आँख है पैवस्त एक सहरा में
अब ऐसी आँख में पानी कहाँ से लाएँ हम

हर एक लफ़्ज़ के मा'नी तलाशते हो तुम
हर एक लफ़्ज़ का मा'नी कहाँ से लाएँ हम

चलो बता दें ज़माने को अपने बारे में
कि रोज़ झूटी कहानी कहाँ से लाएँ हम

- Varun Anand
14 Likes

Dariya Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Varun Anand

As you were reading Shayari by Varun Anand

Similar Writers

our suggestion based on Varun Anand

Similar Moods

As you were reading Dariya Shayari Shayari