yun bhi katne laga hoon ab main ghair-munaasib yaaron se | यूँ भी कटने लगा हूँ अब मैं ग़ैर-मुनासिब यारों से - Vashu Pandey

yun bhi katne laga hoon ab main ghair-munaasib yaaron se
baarish wafa nahin kar sakti mitti ki deewaron se

dukhe hue logon ki dukhti rag ko choona theek nahin
waqt nahin poocha karte hain yaaron waqt ke maaron se

aashiq hain to aashiq waale jalwe bhi dikhlaayen aap
kapde faadein khaaq udaayein sar maarein deewaron se

aur chaman gar apna hai to iska sabkuchh apna hai
beshak phool pe phool lutaaein khaar na khaayein khaaron se

यूँ भी कटने लगा हूँ अब मैं ग़ैर-मुनासिब यारों से
बारिश वफ़ा नहीं कर सकती मिट्टी की दीवारों से

दुखे हुए लोगों की दुखती रग को छूना ठीक नहीं
वक़्त नहीं पूछा करते हैं यारों वक़्त के मारों से

आशिक़ हैं तो आशिक़ वाले जलवे भी दिखलाएँ आप
कपड़े फाड़ें ख़ाक़ उड़ाएँ सर मारें दीवारों से

और चमन गर अपना है तो इसका सबकुछ अपना है
बेशक फूल पे फूल लुटाएँ ख़ार न खाएँ ख़ारों से

- Vashu Pandey
5 Likes

Wafa Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Vashu Pandey

As you were reading Shayari by Vashu Pandey

Similar Writers

our suggestion based on Vashu Pandey

Similar Moods

As you were reading Wafa Shayari Shayari