koi aaghaaz mein anjaam bata jaata hai | कोई आग़ाज़ में अंजाम बता जाता है - Vikram Sharma

koi aaghaaz mein anjaam bata jaata hai
aur phir poori kahaani ka maza jaata hai

ham yahi sochte hain raaste bhar phool liye
ik mulaqaat pe kya tohfa diya jaata hai

ishq jis se ho tiri raah taki jaati hai
hijr jis se ho tujhe yaad kiya jaata hai

kitne hi ranj hain shikwe hain magar ye bhi hai
jis ko jaana ho use jaane diya jaata hai

hijr ka husn udaasi se badhaata hoon main
achha misra ho to phir she'r kaha jaata hai

meri tanhaai mein dale hai khalal chipkaliyaan
us ki tasveer pe phir dhyaan chala jaata hai

कोई आग़ाज़ में अंजाम बता जाता है
और फिर पूरी कहानी का मज़ा जाता है

हम यही सोचते हैं रास्ते भर फूल लिए
इक मुलाक़ात पे क्या तोहफ़ा दिया जाता है

इश्क़ जिस से हो तिरी राह तकी जाती है
हिज्र जिस से हो तुझे याद किया जाता है

कितने ही रंज हैं शिकवे हैं मगर ये भी है
जिस को जाना हो उसे जाने दिया जाता है

हिज्र का हुस्न उदासी से बढ़ाता हूँ मैं
अच्छा मिसरा हो तो फिर शे'र कहा जाता है

मेरी तन्हाई में डाले है ख़लल छिपकलियाँ
उस की तस्वीर पे फिर ध्यान चला जाता है

- Vikram Sharma
2 Likes

Ishq Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Vikram Sharma

As you were reading Shayari by Vikram Sharma

Similar Writers

our suggestion based on Vikram Sharma

Similar Moods

As you were reading Ishq Shayari Shayari