tera banda chala gaya maalik | तेरा बंदा चला गया मालिक - Vikram Gaur Vairagi

tera banda chala gaya maalik
ye to kaafi bura hua maalik

tune duniya bata ke bheja tha
main jahannam mein aa gaya maalik

tere jaison ki hoti thi duniya
mere jaison ka kaun tha maalik

kin ghamon mein uljh gaya tha main
kah raha tha ki shukriya maalik

saare naukar bahut pareshaan the
ye khabar thi ki mar gaya maalik

haan ye sach hai ki main tasavvur hoon
is tasavvur ka dayra maalik

tu mera dukh nahin samajhta hai
tu bhi insaan ho gaya maalik

maine bas uske lab hi dekhe the
ho gaya tha bahut khafa maalik

ab to main tere kaam ka hoon bas
mujhmein ab kuchh nahin bacha maalik

maine veeraan kar liya khud ko
mujhmein aabaad ho gaya maalik

ek hi hain tere mere gham bhi
ek hi hai tera mera maalik

तेरा बंदा चला गया मालिक
ये तो काफ़ी बुरा हुआ मालिक

तूने दुनिया बता के भेजा था
मैं जहन्नम में आ गया मालिक

तेरे जैसों की होती थी दुनिया
मेरे जैसों का कौन था मालिक

किन ग़मों में उलझ गया था मैं
कह रहा था कि शुक्रिया मालिक

सारे नौकर बहुत परेशाँ थे
ये ख़बर थी कि मर गया मालिक

हाँ ये सच है कि मैं तसव्वुर हूँ
इस तसव्वुर का दायरा मालिक

तू मेरा दुख नहीं समझता है
तू भी इंसान हो गया मालिक

मैंने बस उसके लब ही देखे थे
हो गया था बहुत ख़फ़ा मालिक

अब तो मैं तेरे काम का हूँ बस
मुझमें अब कुछ नहीं बचा मालिक

मैंने वीरान कर लिया ख़ुद को
मुझमें आबाद हो गया मालिक

एक ही हैं तेरे मेरे ग़म भी
एक ही है तेरा मेरा मालिक

- Vikram Gaur Vairagi
10 Likes

Gham Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Vikram Gaur Vairagi

As you were reading Shayari by Vikram Gaur Vairagi

Similar Writers

our suggestion based on Vikram Gaur Vairagi

Similar Moods

As you were reading Gham Shayari Shayari