shaam tak subh ki nazaron se utar jaate hain | शाम तक सुब्ह की नज़रों से उतर जाते हैं - Waseem Barelvi

shaam tak subh ki nazaron se utar jaate hain
itne samjhauton pe jeete hain ki mar jaate hain

phir wahi talkhi-e-haalat muqaddar thehri
nashshe kaise bhi hon kuchh din mein utar jaate hain

ik judaai ka vo lamha ki jo marta hi nahin
log kahte the ki sab waqt guzar jaate hain

ghar ki girti hui deewarein hi mujh se achhi
raasta chalte hue log thehar jaate hain

ham to be-naam iraadon ke musaafir hain waseem
kuchh pata ho to bataayein ki kidhar jaate hain

शाम तक सुब्ह की नज़रों से उतर जाते हैं
इतने समझौतों पे जीते हैं कि मर जाते हैं

फिर वही तल्ख़ी-ए-हालात मुक़द्दर ठहरी
नश्शे कैसे भी हों कुछ दिन में उतर जाते हैं

इक जुदाई का वो लम्हा कि जो मरता ही नहीं
लोग कहते थे कि सब वक़्त गुज़र जाते हैं

घर की गिरती हुई दीवारें ही मुझ से अच्छी
रास्ता चलते हुए लोग ठहर जाते हैं

हम तो बे-नाम इरादों के मुसाफ़िर हैं 'वसीम'
कुछ पता हो तो बताएँ कि किधर जाते हैं

- Waseem Barelvi
5 Likes

Aadmi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Waseem Barelvi

As you were reading Shayari by Waseem Barelvi

Similar Writers

our suggestion based on Waseem Barelvi

Similar Moods

As you were reading Aadmi Shayari Shayari