tu samajhta hai ki rishton ki duhaai denge | तू समझता है कि रिश्तों की दुहाई देंगे - Waseem Barelvi

tu samajhta hai ki rishton ki duhaai denge
ham to vo hain tire chehre se dikhaai denge

ham ko mehsoos kiya jaaye hai khushboo ki tarah
ham koi shor nahin hain jo sunaai denge

faisla likkha hua rakha hai pehle se khilaaf
aap kya sahab adaalat mein safaai denge

pichhli saf mein hi sahi hai to isee mehfil mein
aap dekhenge to ham kyun na dikhaai denge

तू समझता है कि रिश्तों की दुहाई देंगे
हम तो वो हैं तिरे चेहरे से दिखाई देंगे

हम को महसूस किया जाए है ख़ुश्बू की तरह
हम कोई शोर नहीं हैं जो सुनाई देंगे

फ़ैसला लिक्खा हुआ रक्खा है पहले से ख़िलाफ़
आप क्या साहब अदालत में सफ़ाई देंगे

पिछली सफ़ में ही सही है तो इसी महफ़िल में
आप देखेंगे तो हम क्यूँ न दिखाई देंगे

- Waseem Barelvi
5 Likes

Justice Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Waseem Barelvi

As you were reading Shayari by Waseem Barelvi

Similar Writers

our suggestion based on Waseem Barelvi

Similar Moods

As you were reading Justice Shayari Shayari