aise us haath se gire ham log | ऐसे उस हाथ से गिरे हम लोग - Zia Mazkoor

aise us haath se gire ham log
tootte tootte bache ham log

apna qissa suna raha hai koi
aur deewaar ke bane ham log

vasl ke bhed kholti mitti
chadaren jhaadte hue ham log

us kabootar ne apni marzi ki
seetiyaan maarte rahe ham log

poochne par koi nahin bola
kaise darwaaza khholte ham log

haafeze ke liye dava khaai
aur bhi bhoolne lage ham log

ain mumkin tha laut aata vo
us ke peeche nahin gaye ham log

ऐसे उस हाथ से गिरे हम लोग
टूटते टूटते बचे हम लोग

अपना क़िस्सा सुना रहा है कोई
और दीवार के बने हम लोग

वस्ल के भेद खोलती मिट्टी
चादरें झाड़ते हुए हम लोग

उस कबूतर ने अपनी मर्ज़ी की
सीटियाँ मारते रहे हम लोग

पूछने पर कोई नहीं बोला
कैसे दरवाज़ा खोलते हम लोग

हाफ़िज़े के लिए दवा खाई
और भी भूलने लगे हम लोग

ऐन मुमकिन था लौट आता वो
उस के पीछे नहीं गए हम लोग

- Zia Mazkoor
5 Likes

Kahani Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Zia Mazkoor

As you were reading Shayari by Zia Mazkoor

Similar Writers

our suggestion based on Zia Mazkoor

Similar Moods

As you were reading Kahani Shayari Shayari