bhare hue jaam par suraahi ka sar jhuka to bura lagega | भरे हुए जाम पर सुराही का सर झुका तो बुरा लगेगा - Zubair Ali Tabish

bhare hue jaam par suraahi ka sar jhuka to bura lagega
jise teri aarzoo nahin tu use mila to bura lagega

ye aisa rasta hai jis pe har koi baarha ladkhada raha hai
main pehli thokar ke baad hi gar sambhal gaya to bura lagega

main khush hoon us ke nikaalne par aur itna aage nikal chuka hoon
ke ab achaanak se us ne waapas bula liya to bura lagega

ye aakhiri kapkapata jumla ki is ta'alluq ko khatm kar do
bade jatan se kaha hai us ne nahin kiya to bura lagega

na jaane kitne ghamon ko peene ke ba'ad taabish chadhi udaasi
kisi ne aise mein aa ke hum ko hansa diya to bura lagega

भरे हुए जाम पर सुराही का सर झुका तो बुरा लगेगा
जिसे तेरी आरज़ू नहीं तू उसे मिला तो बुरा लगेगा

ये ऐसा रस्ता है जिस पे हर कोई बारहा लड़खड़ा रहा है
मैं पहली ठोकर के बाद ही गर सँभल गया तो बुरा लगेगा

मैं ख़ुश हूँ उस के निकालने पर और इतना आगे निकल चुका हूँ
के अब अचानक से उस ने वापस बुला लिया तो बुरा लगेगा

ये आख़िरी कंपकंंपाता जुमला कि इस तअ'ल्लुक़ को ख़त्म कर दो
बड़े जतन से कहा है उस ने नहीं किया तो बुरा लगेगा

न जाने कितने ग़मों को पीने के बा'द ताबिश चढ़ी उदासी
किसी ने ऐसे में आ के हम को हँसा दिया तो बुरा लगेगा

- Zubair Ali Tabish
25 Likes

Khushi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Zubair Ali Tabish

As you were reading Shayari by Zubair Ali Tabish

Similar Writers

our suggestion based on Zubair Ali Tabish

Similar Moods

As you were reading Khushi Shayari Shayari