kab se aadha hai mahtaab mera | कब से आधा है माहताब मिरा - Aamir Azher

kab se aadha hai mahtaab mera
poora hota nahin hai khwaab mera

jis ki chaahat hi ek neki ho
us pe qurbaan har savaab mera

teri duniya hai khwaab ki duniya
meri aankhon mein hai saraab mera

surkh sa chaand aur siyaah si raat
un ki zulfon mein ho gulaab mera

mujh ko deewaangi ka hosh nahin
hosh hi rah gaya jawaab mera

kab se baitha hua hoon chaukhat pe
jaane kis samt mein hai baab mera

taare ginte hue laga aamir
kuchh bigad hi gaya hisaab mera

कब से आधा है माहताब मिरा
पूरा होता नहीं है ख़्वाब मिरा

जिस की चाहत ही एक नेकी हो
उस पे क़ुर्बान हर सवाब मिरा

तेरी दुनिया है ख़्वाब की दुनिया
मेरी आँखों में है सराब मिरा

सुर्ख़ सा चाँद और सियाह सी रात
उन की ज़ुल्फ़ों में हो गुलाब मिरा

मुझ को दीवानगी का होश नहीं
होश ही रह गया जवाब मिरा

कब से बैठा हुआ हूँ चौखट पे
जाने किस सम्त में है बाब मिरा

तारे गिनते हुए लगा 'आमिर'
कुछ बिगड़ ही गया हिसाब मिरा

- Aamir Azher
4 Likes

Charity Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Aamir Azher

As you were reading Shayari by Aamir Azher

Similar Writers

our suggestion based on Aamir Azher

Similar Moods

As you were reading Charity Shayari Shayari