ek aaina roo-b-roo hai abhi | एक आईना रू-ब-रू है अभी - Ada Jafarey

ek aaina roo-b-roo hai abhi
us ki khushboo se guftugoo hai abhi

wahi khaana-b-dosh ummeedein
wahi be-sabr dil ki khoo hai abhi

dil ke gunjaan raaston pe kahi
teri awaaz aur tu hai abhi

zindagi ki tarah khiraaj-talab
koi darmaanda aarzoo hai abhi

bolte hain dilon ke sannaate
shor sa ye jo chaar-soo hai abhi

zard patton ko le gai hai hawa
shaakh mein shiddat-e-numoo hai abhi

warna insaan mar gaya hota
koi be-naam justuju hai abhi

hum-safar bhi hain raahguzaar bhi hai
ye musaafir hi koo-b-koo hai abhi

एक आईना रू-ब-रू है अभी
उस की ख़ुश्बू से गुफ़्तुगू है अभी

वही ख़ाना-ब-दोश उम्मीदें
वही बे-सब्र दिल की ख़ू है अभी

दिल के गुंजान रास्तों पे कहीं
तेरी आवाज़ और तू है अभी

ज़िंदगी की तरह ख़िराज-तलब
कोई दरमाँदा आरज़ू है अभी

बोलते हैं दिलों के सन्नाटे
शोर सा ये जो चार-सू है अभी

ज़र्द पत्तों को ले गई है हवा
शाख़ में शिद्दत-ए-नुमू है अभी

वर्ना इंसान मर गया होता
कोई बे-नाम जुस्तुजू है अभी

हम-सफ़र भी हैं रहगुज़र भी है
ये मुसाफ़िर ही कू-ब-कू है अभी

- Ada Jafarey
1 Like

Protest Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ada Jafarey

As you were reading Shayari by Ada Jafarey

Similar Writers

our suggestion based on Ada Jafarey

Similar Moods

As you were reading Protest Shayari Shayari