aadhon ki taraf se kabhi paunon ki taraf se | आधों की तरफ़ से कभी पौनों की तरफ़ से - Adil Mansuri

aadhon ki taraf se kabhi paunon ki taraf se
aawaaze kase jaate hain baunon ki taraf se

hairat se sabhi khaak-zada dekh rahe hain
har roz zameen ghatti hai konon ki taraf se

aankhon mein liye firte hain is dar-badri mein
kuch toote hue khwaab khilauno ki taraf se

phir koi asa de ki vo funkaarte nikle
phir azdahe fir'aun ke tonon ki taraf se

tu wahm-o-gumaan se bhi pare deta hai sab ko
ho jaata hai pal bhar mein na honon ki taraf se

baaton ka koi silsila jaari ho kisi taur
khaamoshi hi khaamoshi hai dono ki taraf se

phir ba'ad mein darwaaza dikha dete hain aadil
pehle vo uthaate hain bichhaunon ki taraf se

आधों की तरफ़ से कभी पौनों की तरफ़ से
आवाज़े कसे जाते हैं बौनों की तरफ़ से

हैरत से सभी ख़ाक-ज़दा देख रहे हैं
हर रोज़ ज़मीं घटती है कोनों की तरफ़ से

आँखों में लिए फिरते हैं इस दर-बदरी में
कुछ टूटे हुए ख़्वाब खिलौनों की तरफ़ से

फिर कोई असा दे कि वो फुंकारते निकले
फिर अज़दहे फ़िरऔन के टोनों की तरफ़ से

तू वहम-ओ-गुमाँ से भी परे देता है सब को
हो जाता है पल भर में न होनों की तरफ़ से

बातों का कोई सिलसिला जारी हो किसी तौर
ख़ामोशी ही ख़ामोशी है दोनों की तरफ़ से

फिर बा'द में दरवाज़ा दिखा देते हैं 'आदिल'
पहले वो उठाते हैं बिछौनों की तरफ़ से

- Adil Mansuri
0 Likes

Raasta Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Adil Mansuri

As you were reading Shayari by Adil Mansuri

Similar Writers

our suggestion based on Adil Mansuri

Similar Moods

As you were reading Raasta Shayari Shayari