dil badan ka shareek-e-haal kahaan | दिल बदन का शरीक-ए-हाल कहां - Ahmad Faraz

dil badan ka shareek-e-haal kahaan
hijr phir hijr hai visaal kahaan

ishq hai naam intihaaon ka
is samundar mein etidaal kahaan

aisa nashaato zahar mein bhi na tha
ai gham-e-dil tiri misaal kahaan

hum ko bhi apni paayemaali ka
hai magar is qadar malaal kaha

main nayi dosti ke mod pe tha
aa gaya hai tira khayal kaha

dil ki khush-fahm tha so hai warna
tere milne ka ehtimaal kahaan

vasl o hijraanhain aur duniyaayein
in zamaanon mein maah-o-saal kahaan

tujh ko dekha to log hairaanhain
aa gaya shehar mein ghazaal kahaan

tujh pe likkhi to saj gai hai ghazal
aa mila khwaab se khayal kahaan

ab to shah maat ho rahi hai faraaz
ab bachaav ki koi chaal kahaan

दिल बदन का शरीक-ए-हाल कहां
हिज्र फिर हिज्र है विसाल कहां

इश्क़ है नाम इंतिहाओं का
इस समुंदर में एतिदाल कहां

ऐसा नशातो ज़हर में भी न था
ऐ ग़म-ए-दिल तिरी मिसाल कहां

हम को भी अपनी पाएमाली का
है मगर इस क़दर मलाल कहा

मैं नई दोस्ती के मोड़ पे था
आ गया है तिरा ख़याल कहा

दिल कि ख़ुश-फ़हम था सो है वर्ना
तेरे मिलने का एहतिमाल कहां

वस्ल ओ हिज्रांहैं और दुनियाएं
इन ज़मानों में माह-ओ-साल कहां

तुझ को देखा तो लोग हैरांहैं
आ गया शहर में ग़ज़ाल कहां

तुझ पे लिक्खी तो सज गई है ग़ज़ल
आ मिला ख़्वाब से ख़याल कहां

अब तो शह मात हो रही है 'फ़राज़'
अब बचाव की कोई चाल कहां

- Ahmad Faraz
1 Like

Dil Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ahmad Faraz

As you were reading Shayari by Ahmad Faraz

Similar Writers

our suggestion based on Ahmad Faraz

Similar Moods

As you were reading Dil Shayari Shayari