chin gai teri tamannaa bhi tamannaai se | छिन गई तेरी तमन्ना भी तमन्नाई से - Ahmad Mushtaq

chin gai teri tamannaa bhi tamannaai se
dil bahalte hain kahi hausla-afzaai se

kaisa raushan tha tira neend mein dooba chehra
jaise ubhara ho kisi khwaab ki gehraai se

wahi aashufta-mizaaji wahi khushiyaan wahi gham
ishq ka kaam liya ham ne shanaasaai se

na kabhi aankh bhar aayi na tira naam liya
bach ke chalte rahe har koocha-e-ruswaai se

hijr ke dam se salaamat hai tire vasl ki aas
tar-o-taazaa hai khushi gham ki tawaanai se

khil ke murjha bhi gaye fasl-e-mulaqaat ke phool
ham hi faarigh na hue mausam-e-tanhaai se

छिन गई तेरी तमन्ना भी तमन्नाई से
दिल बहलते हैं कहीं हौसला-अफ़ज़ाई से

कैसा रौशन था तिरा नींद में डूबा चेहरा
जैसे उभरा हो किसी ख़्वाब की गहराई से

वही आशुफ़्ता-मिज़ाजी वही ख़ुशियाँ वही ग़म
इश्क़ का काम लिया हम ने शनासाई से

न कभी आँख भर आई न तिरा नाम लिया
बच के चलते रहे हर कूचा-ए-रुस्वाई से

हिज्र के दम से सलामत है तिरे वस्ल की आस
तर-ओ-ताज़ा है ख़ुशी ग़म की तवानाई से

खिल के मुरझा भी गए फ़स्ल-ए-मुलाक़ात के फूल
हम ही फ़ारिग़ न हुए मौसम-ए-तन्हाई से

- Ahmad Mushtaq
0 Likes

Udas Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ahmad Mushtaq

As you were reading Shayari by Ahmad Mushtaq

Similar Writers

our suggestion based on Ahmad Mushtaq

Similar Moods

As you were reading Udas Shayari Shayari