kaise unhen bhulaaun mohabbat jinhon ne ki | कैसे उन्हें भुलाऊँ मोहब्बत जिन्हों ने की - Ahmad Mushtaq

kaise unhen bhulaaun mohabbat jinhon ne ki
mujh ko to vo bhi yaad hain nafrat jinhon ne ki

duniya mein ehtiraam ke qaabil vo log hain
ai zillat-e-wafa tiri izzat jinhon ne ki

tazain-e-kaayenaat ka baa'is wahi bane
duniya se ikhtilaaf ki jurat jinhon ne ki

aasoodagaan-e-manjil-e-laila udaas hain
achhe rahe na tay ye masafat jinhon ne ki

ahl-e-hawas to khair havas mein hue zaleel
vo bhi hue kharab mohabbat jinhon ne ki

कैसे उन्हें भुलाऊँ मोहब्बत जिन्हों ने की
मुझ को तो वो भी याद हैं नफ़रत जिन्हों ने की

दुनिया में एहतिराम के क़ाबिल वो लोग हैं
ऐ ज़िल्लत-ए-वफ़ा तिरी इज़्ज़त जिन्हों ने की

तज़ईन-ए-काएनात का बाइस वही बने
दुनिया से इख़्तिलाफ़ की जुरअत जिन्हों ने की

आसूदगान-ए-मंजि़ल-ए-लैला उदास हैं
अच्छे रहे न तय ये मसाफ़त जिन्हों ने की

अहल-ए-हवस तो ख़ैर हवस में हुए ज़लील
वो भी हुए ख़राब, मोहब्बत जिन्हों ने की

- Ahmad Mushtaq
0 Likes

Haya Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ahmad Mushtaq

As you were reading Shayari by Ahmad Mushtaq

Similar Writers

our suggestion based on Ahmad Mushtaq

Similar Moods

As you were reading Haya Shayari Shayari