bithaai jaayengi parde mein bibiyaan kab tak | बिठाई जाएँगी पर्दे में बीबियाँ कब तक - Akbar Allahabadi

bithaai jaayengi parde mein bibiyaan kab tak
bane rahoge tum is mulk mein miyaan kab tak

harm-sara ki hifazat ko teg hi na rahi
to kaam denge ye chilman ki teeliyaan kab tak

miyaan se bibi hain parda hai un ko farz magar
miyaan ka ilm hi utha to phir miyaan kab tak

tabi'aton ka numoo hai hawa-e-maghrib mein
ye ghairatein ye hararat ye garmiyaan kab tak

awaam baandh len dohar to third waanter mein
second-first ki hon band khidkiyaan kab tak

jo munh dikhaai ki rasmon pe hai musir iblees
chupengi hazrat-e-hawa ki betiyaan kab tak

janab hazrat-e-'akbar hain haami-e-parda
magar vo kab tak aur un ki rubaaiyaan kab tak

बिठाई जाएँगी पर्दे में बीबियाँ कब तक
बने रहोगे तुम इस मुल्क में मियाँ कब तक

हरम-सरा की हिफ़ाज़त को तेग़ ही न रही
तो काम देंगी ये चिलमन की तीलियाँ कब तक

मियाँ से बीबी हैं पर्दा है उन को फ़र्ज़ मगर
मियाँ का इल्म ही उट्ठा तो फिर मियाँ कब तक

तबीअतों का नुमू है हवा-ए-मग़रिब में
ये ग़ैरतें ये हरारत ये गर्मियाँ कब तक

अवाम बाँध लें दोहर तो थर्ड वानटर में
सेकंड-फ़र्स्ट की हों बंद खिड़कियाँ कब तक

जो मुँह दिखाई की रस्मों पे है मुसिर इबलीस
छुपेंगी हज़रत-ए-हवा की बेटियाँ कब तक

जनाब हज़रत-ए-'अकबर' हैं हामी-ए-पर्दा
मगर वो कब तक और उन की रुबाइयाँ कब तक

- Akbar Allahabadi
1 Like

Bhai Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Akbar Allahabadi

As you were reading Shayari by Akbar Allahabadi

Similar Writers

our suggestion based on Akbar Allahabadi

Similar Moods

As you were reading Bhai Shayari Shayari