sheikh ne naaqoos ke sur mein jo khud hi taan li | शेख़ ने नाक़ूस के सुर में जो ख़ुद ही तान ली - Akbar Allahabadi

sheikh ne naaqoos ke sur mein jo khud hi taan li
phir to yaaron ne bhajan gaane ki khul kar thaan li

muddaton qaaim raheingi ab dilon mein garmiyaan
main ne photo le liya us ne nazar pehchaan li

ro rahe hain dost meri laash par be-ikhtiyaar
ye nahin daryaft karte kis ne is ki jaan li

main to engine ki gale-baazi ka qaail ho gaya
rah gaye nagme hudi-khwaanon ke aisi taan li

hazrat-e-'akbar ke istiqlaal ka hoon mo'tarif
ta-b-marg us par rahe qaaim jo dil mein thaan li

शेख़ ने नाक़ूस के सुर में जो ख़ुद ही तान ली
फिर तो यारों ने भजन गाने की खुल कर ठान ली

मुद्दतों क़ाइम रहेंगी अब दिलों में गर्मियाँ
मैं ने फोटो ले लिया उस ने नज़र पहचान ली

रो रहे हैं दोस्त मेरी लाश पर बे-इख़्तियार
ये नहीं दरयाफ़्त करते किस ने इस की जान ली

मैं तो इंजन की गले-बाज़ी का क़ाइल हो गया
रह गए नग़्मे हुदी-ख़्वानों के ऐसी तान ली

हज़रत-ए-'अकबर' के इस्तिक़्लाल का हूँ मो'तरिफ़
ता-ब-मर्ग उस पर रहे क़ाइम जो दिल में ठान ली

- Akbar Allahabadi
0 Likes

Mehboob Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Akbar Allahabadi

As you were reading Shayari by Akbar Allahabadi

Similar Writers

our suggestion based on Akbar Allahabadi

Similar Moods

As you were reading Mehboob Shayari Shayari