jab yaas hui to aahon ne seene se nikalna chhod diya | जब यास हुई तो आहों ने सीने से निकलना छोड़ दिया - Akbar Allahabadi

jab yaas hui to aahon ne seene se nikalna chhod diya
ab khushk-mizaaj aankhen bhi hui dil ne bhi machalna chhod diya

naavak-fagani se zalim ki jungle mein hai ik sannaata sa
murgaan-e-khush-alhaan ho gaye chup aahu ne uchhalna chhod diya

kyun kibr-o-ghuroor is daur pe hai kyun dost falak ko samjha hai
gardish se ye apni baaz aaya ya rang badalna chhod diya

badli vo hawa guzra vo samaan vo raah nahin vo log nahin
tafreeh kahaan aur sair kuja ghar se bhi nikalna chhod diya

vo soz-o-gudaaz us mehfil mein baaki na raha andher hua
parvaanon ne jalna chhod diya shamon ne pighalna chhod diya

har gaam pe chand aankhen nigaraan har mod pe ik lessens-talab
us park mein aakhir ai akbar main ne to tahlna chhod diya

kya deen ko quwwat den ye jawaan jab hausla-afza koi nahin
kya hosh sambhalen ye ladke khud us ne sambhalna chhod diya

iqbaal musaaid jab na raha rakhe ye qadam jis manzil mein
ashjaar se saaya door hua chashmon ne ubalna chhod diya

allah ki raah ab tak hai khuli aasaar-o-nishaan sab qaaim hain
allah ke bandon ne lekin us raah mein chalna chhod diya

jab sar mein hawa-e-taaat thi sarsabz shajar ummeed ka tha
jab sar-sar-e-isaan chalne lagi is ped ne falna chhod diya

us hoor-laqaa ko ghar laaye ho tum ko mubarak ai akbar
lekin ye qayamat ki tum ne ghar se jo nikalna chhod diya

जब यास हुई तो आहों ने सीने से निकलना छोड़ दिया
अब ख़ुश्क-मिज़ाज आँखें भी हुईं दिल ने भी मचलना छोड़ दिया

नावक-फ़गनी से ज़ालिम की जंगल में है इक सन्नाटा सा
मुर्ग़ान-ए-ख़ुश-अलहाँ हो गए चुप आहू ने उछलना छोड़ दिया

क्यूँ किब्र-ओ-ग़ुरूर इस दौर पे है क्यूँ दोस्त फ़लक को समझा है
गर्दिश से ये अपनी बाज़ आया या रंग बदलना छोड़ दिया

बदली वो हवा गुज़रा वो समाँ वो राह नहीं वो लोग नहीं
तफ़रीह कहाँ और सैर कुजा घर से भी निकलना छोड़ दिया

वो सोज़-ओ-गुदाज़ उस महफ़िल में बाक़ी न रहा अंधेर हुआ
परवानों ने जलना छोड़ दिया शम्ओं ने पिघलना छोड़ दिया

हर गाम पे चंद आँखें निगराँ हर मोड़ पे इक लेसंस-तलब
उस पार्क में आख़िर ऐ 'अकबर' मैं ने तो टहलना छोड़ दिया

क्या दीन को क़ुव्वत दें ये जवाँ जब हौसला-अफ़्ज़ा कोई नहीं
क्या होश सँभालें ये लड़के ख़ुद उस ने सँभलना छोड़ दिया

इक़बाल मुसाइद जब न रहा रक्खे ये क़दम जिस मंज़िल में
अश्जार से साया दूर हुआ चश्मों ने उबलना छोड़ दिया

अल्लाह की राह अब तक है खुली आसार-ओ-निशाँ सब क़ाएम हैं
अल्लाह के बंदों ने लेकिन उस राह में चलना छोड़ दिया

जब सर में हवा-ए-ताअत थी सरसब्ज़ शजर उम्मीद का था
जब सर-सर-ए-इस्याँ चलने लगी इस पेड़ ने फलना छोड़ दिया

उस हूर-लक़ा को घर लाए हो तुम को मुबारक ऐ 'अकबर'
लेकिन ये क़यामत की तुम ने घर से जो निकलना छोड़ दिया

- Akbar Allahabadi
1 Like

Raasta Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Akbar Allahabadi

As you were reading Shayari by Akbar Allahabadi

Similar Writers

our suggestion based on Akbar Allahabadi

Similar Moods

As you were reading Raasta Shayari Shayari