ab aa gaya hai jahaan mein to muskurata ja | अब आ गया है जहाँ में तो मुस्कुराता जा - Ali Sardar Jafri

ab aa gaya hai jahaan mein to muskurata ja
chaman ke phool dilon ke kanwal khilaata ja

adam hayaat se pehle adam hayaat ke ba'ad
ye ek pal hai use jaavedaan banata ja

bhatk rahi hai andhere mein zindagi ki baraat
koi charaagh sar-e-rahguzar jalata ja

guzar chaman se misaal-e-naseem-e-subh-e-bahaar
gulon ko chhed ke kaanton ko gudgudaata ja

rah-e-daraaz hai aur door shauq ki manzil
garaan hai marhala-e-umr geet gaata ja

bala se bazm mein gar zauq-e-naghmagi kam hai
nava-e-talkh ko kuchh talkh-tar banata ja

jo ho sake to badal zindagi ko khud warna
nazaad-e-nau ko tareeq-e-junoon sikhaata ja

dikha ke jalwa-e-farda bana de deewaana
naye zamaane ke rukh se naqaab uthaata ja

bahut dinon se dil-o-jaan ki mahfilein hain udaas
koi taraana koi dastaan sunaata ja

अब आ गया है जहाँ में तो मुस्कुराता जा
चमन के फूल दिलों के कँवल खिलाता जा

अदम हयात से पहले अदम हयात के बा'द
ये एक पल है उसे जावेदाँ बनाता जा

भटक रही है अँधेरे में ज़िंदगी की बरात
कोई चराग़ सर-ए-रहगुज़र जलाता जा

गुज़र चमन से मिसाल-ए-नसीम-ए-सुब्ह-ए-बहार
गुलों को छेड़ के काँटों को गुदगुदाता जा

रह-ए-दराज़ है और दूर शौक़ की मंज़िल
गराँ है मरहला-ए-उम्र गीत गाता जा

बला से बज़्म में गर ज़ौक़-ए-नग़्मगी कम है
नवा-ए-तल्ख़ को कुछ तल्ख़-तर बनाता जा

जो हो सके तो बदल ज़िंदगी को ख़ुद वर्ना
नज़ाद-ए-नौ को तरीक़-ए-जुनूँ सिखाता जा

दिखा के जलवा-ए-फ़र्दा बना दे दीवाना
नए ज़माने के रुख़ से नक़ाब उठाता जा

बहुत दिनों से दिल-ओ-जाँ की महफ़िलें हैं उदास
कोई तराना कोई दास्ताँ सुनाता जा

- Ali Sardar Jafri
0 Likes

Mehfil Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ali Sardar Jafri

As you were reading Shayari by Ali Sardar Jafri

Similar Writers

our suggestion based on Ali Sardar Jafri

Similar Moods

As you were reading Mehfil Shayari Shayari