wahi hai vehshat wahi hai nafrat aakhir is ka kya hai sabab | वही है वहशत वही है नफ़रत आख़िर इस का क्या है सबब - Ali Sardar Jafri

wahi hai vehshat wahi hai nafrat aakhir is ka kya hai sabab
insaan insaan bahut rata hai insaan insaan banega kab

ved upnishad purze purze geeta quraan varq varq
raam-o-krishn-o-gautam-o-yazdan zakham-reseeda sab ke sab

ab tak aisa mila na koi dil ki pyaas bujhaata jo
yun may-khaana-chashm bahut hain bahut hain yun to saaqi-lab

jis ki teg hai duniya us ki jis ki laathi us ki bhains
sab qaateel hain sab maqtool hain sab mazloom hain zalim sab

khanjar khanjar qaateel abroo dilbar haath maseeha hont
lahu lahu hai shaam-e-tamanna aansu aansu subh-e-tarab

dekhen din firte hain kab tak dekhen phir kab milte hain
dil se dil aankhon se aankhen haath se haath aur lab se lab

zakhmi sarhad zakhmi qaumen zakhmi insaan zakhmi mulk
harf-e-haq ki saleeb uthaaye koi maseeh to aaye ab

वही है वहशत वही है नफ़रत आख़िर इस का क्या है सबब
इंसाँ इंसाँ बहुत रटा है इंसाँ इंसाँ बनेगा कब

वेद उपनिषद पुर्ज़े पुर्ज़े गीता क़ुरआँ वरक़ वरक़
राम-ओ-कृष्न-ओ-गौतम-ओ-यज़्दाँ ज़ख़्म-रसीदा सब के सब

अब तक ऐसा मिला न कोई दिल की प्यास बुझाता जो
यूँ मय-ख़ाना-चश्म बहुत हैं बहुत हैं यूँ तो साक़ी-लब

जिस की तेग़ है दुनिया उस की जिस की लाठी उस की भैंस
सब क़ातिल हैं सब मक़्तूल हैं सब मज़लूम हैं ज़ालिम सब

ख़ंजर ख़ंजर क़ातिल अबरू दिलबर हाथ मसीहा होंट
लहू लहू है शाम-ए-तमन्ना आँसू आँसू सुब्ह-ए-तरब

देखें दिन फिरते हैं कब तक देखें फिर कब मिलते हैं
दिल से दिल आँखों से आँखें हाथ से हाथ और लब से लब

ज़ख़्मी सरहद ज़ख़्मी क़ौमें ज़ख़्मी इंसाँ ज़ख़्मी मुल्क
हर्फ़-ए-हक़ की सलीब उठाए कोई मसीह तो आए अब

- Ali Sardar Jafri
0 Likes

Protest Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ali Sardar Jafri

As you were reading Shayari by Ali Sardar Jafri

Similar Writers

our suggestion based on Ali Sardar Jafri

Similar Moods

As you were reading Protest Shayari Shayari