baat muqaddar ki hai saari waqt ka likkha maarta hai | बात मुकद्दर की है सारी वक्त का लिक्खा मारता है - Ali Zaryoun

baat muqaddar ki hai saari waqt ka likkha maarta hai
kuch sajdon mein mar jaate hain kuch ko sajda maarta hai

sirf hum hi hain jo tujh par poore ke poore marte hain
varna kisi ko teri aankhen kisi ko lahza maarta hai

dilwaale ek dooje ki imdaad ko khud mar jaate hain
duniyadaar ko jab bhi maare duniyaavaala maarta hai

shehar mein ek naye kaatil ke husn-e-sukhan ke balve hain
usse bach ke rahna sher suna ke banda maarta hai

बात मुकद्दर की है सारी वक्त का लिक्खा मारता है
कुछ सजदों में मर जाते हैं कुछ को सजदा मारता है

सिर्फ हम ही हैं जो तुझ पर पूरे के पूरे मरते हैं
वरना किसी को तेरी आंखें, किसी को लहज़ा मारता है

दिलवाले एक दूजे की इमदाद को खुद मर जाते हैं
दुनियादार को जब भी मारे दुनियावाला मारता है

शहर में एक नए कातिल के हुस्न-ए-सुखन के बलवे हैं
उससे बच के रहना शेर सुना के बंदा मारता है

- Ali Zaryoun
33 Likes

Duniya Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ali Zaryoun

As you were reading Shayari by Ali Zaryoun

Similar Writers

our suggestion based on Ali Zaryoun

Similar Moods

As you were reading Duniya Shayari Shayari