ho jise yaar se tasdeeq nahin kar saka | हो जिसे यार से तस्दीक़ नहीं कर सकता - Ali Zaryoun

ho jise yaar se tasdeeq nahin kar saka
vo kisi sher ki tazheek nahin kar saka

pur-kashish dost mere hijr ki majboori samajh
main tujhe door se nazdeek nahin kar saka

mujh pe tanqeed se rahte hain ujaale jinmein
un dukano ko main tareek nahin kar saka

kaun se gham se nikalna hai kise rakhna hai
mas’ala ye hai main tafreek nahin kar saka

ped ko gaaliyaan bakne ke ilaava zaryoon
kya karein vo ke jo takhleeq nahin kar saka

sher to khair main tanhaai mein kah looga ali
apni haalat to main khud theek nahin kar saka

hijr se gujre bina ishq bataane waala
bahs kar saka hai tehqeeq nahin kar saka

हो जिसे यार से तस्दीक़ नहीं कर सकता
वो किसी शेर की तज़हीक नहीं कर सकता

पुर-कशिश दोस्त मेरे हिज्र की मजबूरी समझ
मैं तुझे दूर से नज़दीक नहीं कर सकता

मुझ पे तनकीद से रहते हैं उजाले जिनमें
उन दुकानों को मैं तारीक नहीं कर सकता

कौन से ग़म से निकलना है किसे रखना है
मस‌अला ये है मैं तफरीक नहीं कर सकता

पेड़ को गालियां बकने के इलावा ज़रयून
क्या करें वो के जो तख़लीक़ नहीं कर सकता

शेर तो खैर मैं तन्हाई में कह लूगा अली
अपनी हालत तो मैं खुद ठीक नहीं कर सकता

हिज्र से गुजरे बिना इश्क बताने वाला
बहस कर सकता है तहकीक नहीं कर सकता

- Ali Zaryoun
5 Likes

Subah Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ali Zaryoun

As you were reading Shayari by Ali Zaryoun

Similar Writers

our suggestion based on Ali Zaryoun

Similar Moods

As you were reading Subah Shayari Shayari