naya zaayqa hai maza mukhtalif hai | नया ज़ायक़ा है मज़ा मुख़्तलिफ़ है - Ali Zaryoun

naya zaayqa hai maza mukhtalif hai
ghazal chakh ke dekh is dafa mukhtalif hai

suno tumne duniya firee hai parindon
ye tanhaai kya har jagah mukhtalif hai

sada kaam kaise karegi wahan par
gali to wahi hai gala mukhtalif hai

hamaari tumhaari saza ik nahin kyun
hamaari tumhaari khata mukhtalif hai

tum abtak munaafiq dilon mein rahi ho
mere dil kii aab-o-hawa mukhtalif hai

vo rote hue hans pada aur bola
khuda aadmi se bada mukhtalif hai

नया ज़ायक़ा है मज़ा मुख़्तलिफ़ है
ग़ज़ल चख के देख इस दफ़ा मुख़्तलिफ़ है

सुनो तुमने दुनिया फिरी है परिंदों
ये तन्हाई क्या हर जगह मुख़्तलिफ़ है

सदा काम कैसे करेगी वहाँ पर
गली तो वही है गला मुख़्तलिफ़ है

हमारी तुम्हारी सज़ा इक नहीं क्यों
हमारी तुम्हारी ख़ता मुख़्तलिफ़ है

तुम अबतक मुनाफ़िक़ दिलों में रही हो
मिरे दिल की आब-ओ-हवा मुख़्तलिफ़ है

वो रोते हुए हँस पड़ा और बोला
ख़ुदा आदमी से बड़ा मुख़्तलिफ़ है

- Ali Zaryoun
10 Likes

Tanhai Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ali Zaryoun

As you were reading Shayari by Ali Zaryoun

Similar Writers

our suggestion based on Ali Zaryoun

Similar Moods

As you were reading Tanhai Shayari Shayari