us mohalle ke sab gharo ki khair | उस मोहल्ले के सब घरों की खैर - Ali Zaryoun

us mohalle ke sab gharo ki khair
aur gharo mein jale diyon ki khair

maa main qurbaan tere gusse par
baba jaani ki jhidkiyon ki khair

tere ham-khwaab doston ke nisaar
teri ham-naam ladkiyon ki khair

jo tere khaddo khaal par honge
tere betau ki betiyon ki khair

jinka sardaar o peshwa mein hoon
tere haatho pooche huoon ki khair

tooti-footi likhaai ke sadke
pehli pehli mohabbaton ki khair

dushmanon ke liye dua yaani
teri jaanib ke doston ki khair

facebook se jo door baithe hain
un fakeeron ki baithkon ki khair

car mein baagh khil gaya jaise
gulbadan teri khushbuon ki khair

vo jo seenon pe das ke hansati hai
un havasnaak naginon ki khair

उस मोहल्ले के सब घरों की खैर
और घरों में जले दियों की खैर

मां मैं कुर्बान तेरे गुस्से पर
बाबा जानी की झिड़कियों की खैर

तेरे हम-ख्वाब दोस्तों के निसार
तेरी हम-नाम लड़कियों की खैर

जो तेरे खद्दो खाल पर होंगे
तेरे बेटौ की बेटियों की खैर

जिनका सरदार ओ पेशवा में हूं
तेरे हाथो पूछे हुओं की खैर

टूटी-फूटी लिखाई के सदके
पहली पहली मोहब्बतों की खैर

दुश्मनों के लिए दुआ यानी
तेरी जानिब के दोस्तों की खैर

फेसबुक से जो दूर बैठे हैं
उन फकीरों की बैठकों की खैर

कार में बाग़ खिल गया जैसे
गुलबदन तेरी खुशबुओं की खैर

वो जो सीनों पे डस के हंसती है
उन हवसनाक नागिनों की खैर

- Ali Zaryoun
6 Likes

Birthday Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ali Zaryoun

As you were reading Shayari by Ali Zaryoun

Similar Writers

our suggestion based on Ali Zaryoun

Similar Moods

As you were reading Birthday Shayari Shayari