aflaak se aata hai naalon ka jawaab aakhir | अफ़्लाक से आता है नालों का जवाब आख़िर - Allama Iqbal

aflaak se aata hai naalon ka jawaab aakhir
karte hain khitaab aakhir uthte hain hijaab aakhir

ahwaal-e-mohabbat mein kuchh farq nahin aisa
soz o tab-o-taab awwal soz o tab-o-taab aakhir

main tujh ko bataata hoon taqdeer-e-umam kya hai
shamsher-o-sinaan awwal taaus-o-rubaab aakhir

may-khaana-e-yurope ke dastoor niraale hain
laate hain suroor awwal dete hain sharaab aakhir

kya dabdaba-e-naadir kya shaoukat-e-taimoori
ho jaate hain sab daftar gharq-e-may-e-naab aakhir

khilwat ki ghadi guzri jalvat ki ghadi aayi
chhutne ko hai bijli se aaghosh-e-sahaab aakhir

tha zabt bahut mushkil is sail-e-ma'ani ka
kah dale qalander ne asraar-e-kitaab aakhir

अफ़्लाक से आता है नालों का जवाब आख़िर
करते हैं ख़िताब आख़िर उठते हैं हिजाब आख़िर

अहवाल-ए-मोहब्बत में कुछ फ़र्क़ नहीं ऐसा
सोज़ ओ तब-ओ-ताब अव्वल सोज़ ओ तब-ओ-ताब आख़िर

मैं तुझ को बताता हूँ तक़दीर-ए-उमम क्या है
शमशीर-ओ-सिनाँ अव्वल ताऊस-ओ-रुबाब आख़िर

मय-ख़ाना-ए-यूरोप के दस्तूर निराले हैं
लाते हैं सुरूर अव्वल देते हैं शराब आख़िर

क्या दबदबा-ए-नादिर क्या शौकत-ए-तैमूरी
हो जाते हैं सब दफ़्तर ग़र्क़-ए-मय-ए-नाब आख़िर

ख़ल्वत की घड़ी गुज़री जल्वत की घड़ी आई
छुटने को है बिजली से आग़ोश-ए-सहाब आख़िर

था ज़ब्त बहुत मुश्किल इस सैल-ए-मआ'नी का
कह डाले क़लंदर ने असरार-ए-किताब आख़िर

- Allama Iqbal
0 Likes

Bijli Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Allama Iqbal

As you were reading Shayari by Allama Iqbal

Similar Writers

our suggestion based on Allama Iqbal

Similar Moods

As you were reading Bijli Shayari Shayari