la phir ik baar wahi baada o jaam ai saaqi | ला फिर इक बार वही बादा ओ जाम ऐ साक़ी - Allama Iqbal

la phir ik baar wahi baada o jaam ai saaqi
haath aa jaaye mujhe mera maqaam ai saaqi

teen sau saal se hain hind ke may-khaane band
ab munaasib hai tira faiz ho aam ai saaqi

meri meena-e-ghazal mein thi zara si baaki
sheikh kehta hai ki hai ye bhi haraam ai saaqi

sher mardon se hua besh-e-tahqeeq tahee
rah gaye sufi o mulla ke ghulaam ai saaqi

ishq ki tegh-e-jigar-daar uda li kis ne
ilm ke haath mein khaali hai niyaam ai saaqi

seena raushan ho to hai soz-e-sukhan ain-e-hayaat
ho na raushan to sukhun marg-e-davaam ai saaqi

tu meri raat ko mahtaab se mahroom na rakh
tire paimaane mein hai maah-e-tamaam ai saaqi

ला फिर इक बार वही बादा ओ जाम ऐ साक़ी
हाथ आ जाए मुझे मेरा मक़ाम ऐ साक़ी

तीन सौ साल से हैं हिन्द के मय-ख़ाने बंद
अब मुनासिब है तिरा फ़ैज़ हो आम ऐ साक़ी

मेरी मीना-ए-ग़ज़ल में थी ज़रा सी बाक़ी
शेख़ कहता है कि है ये भी हराम ऐ साक़ी

शेर मर्दों से हुआ बेश-ए-तहक़ीक़ तही
रह गए सूफ़ी ओ मुल्ला के ग़ुलाम ऐ साक़ी

इश्क़ की तेग़-ए-जिगर-दार उड़ा ली किस ने
इल्म के हाथ में ख़ाली है नियाम ऐ साक़ी

सीना रौशन हो तो है सोज़-ए-सुख़न ऐन-ए-हयात
हो न रौशन तो सुख़न मर्ग-ए-दवाम ऐ साक़ी

तू मिरी रात को महताब से महरूम न रख
तिरे पैमाने में है माह-ए-तमाम ऐ साक़ी

- Allama Iqbal
2 Likes

I love you Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Allama Iqbal

As you were reading Shayari by Allama Iqbal

Similar Writers

our suggestion based on Allama Iqbal

Similar Moods

As you were reading I love you Shayari Shayari