zameen pe insaan khuda bana tha vaba se pehle | ज़मीं पे इंसाँ ख़ुदा बना था वबा से पहले - Ambreen Haseeb Ambar

zameen pe insaan khuda bana tha vaba se pehle
vo khud ko sab kuch samajh raha tha vaba se pehle

palak jhapakte hi saara manzar badal gaya hai
yahan to mela laga hua tha vaba se pehle

tum aaj haathon se dooriyaan naapte ho socho
dilon mein kis darja fasla tha vaba se pehle

ajeeb si daud mein sab aise lage hue the
makaan makeenon ko dhoondhta tha vaba se pehle

hum aaj khilwat mein is zamaane ko ro rahe hain
vo jis se sab ko bahut gila tha vaba se pehle

na jaane kyun aa gaya dua mein meri vo baccha
sadak pe jo phool bechta tha vaba se pehle

dua ko utthe hain haath ambar to dhyaan aaya
ye aasmaan surkh ho chuka tha vaba se pehle

ज़मीं पे इंसाँ ख़ुदा बना था वबा से पहले
वो ख़ुद को सब कुछ समझ रहा था वबा से पहले

पलक झपकते ही सारा मंज़र बदल गया है
यहाँ तो मेला लगा हुआ था वबा से पहले

तुम आज हाथों से दूरियाँ नापते हो सोचो
दिलों में किस दर्जा फ़ासला था वबा से पहले

अजीब सी दौड़ में सब ऐसे लगे हुए थे
मकाँ मकीनों को ढूँढता था वबा से पहले

हम आज ख़ल्वत में इस ज़माने को रो रहे हैं
वो जिस से सब को बहुत गिला था वबा से पहले

न जाने क्यों आ गया दुआ में मिरी वो बच्चा
सड़क पे जो फूल बेचता था वबा से पहले

दुआ को उट्ठे हैं हाथ 'अम्बर' तो ध्यान आया
ये आसमाँ सुर्ख़ हो चुका था वबा से पहले

- Ambreen Haseeb Ambar
0 Likes

Faasla Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ambreen Haseeb Ambar

As you were reading Shayari by Ambreen Haseeb Ambar

Similar Writers

our suggestion based on Ambreen Haseeb Ambar

Similar Moods

As you were reading Faasla Shayari Shayari