kaandhon se zindagi ko utarne nahin diya | काँधों से ज़िंदगी को उतरने नहीं दिया - Ameer Imam

kaandhon se zindagi ko utarne nahin diya
us maut ne kabhi mujhe marne nahin diya

poocha tha aaj mere tabassum ne ik sawaal
koi jawaab deeda-e-tar ne nahin diya

tujh tak main apne aap se ho kar guzar gaya
rasta jo teri raah guzarne nahin diya

kitna ajeeb mera bikhrna hai dosto
main ne kabhi jo khud ko bikharna nahin diya

hai imtihaan kaun sa sehara-e-zindagi
ab tak jo tere khaak-basar ne nahin diya

yaaro ameer imaam bhi ik aftaab tha
par us ko teergi ne ubharne nahin diya

काँधों से ज़िंदगी को उतरने नहीं दिया
उस मौत ने कभी मुझे मरने नहीं दिया

पूछा था आज मेरे तबस्सुम ने इक सवाल
कोई जवाब दीदा-ए-तर ने नहीं दिया

तुझ तक मैं अपने आप से हो कर गुज़र गया
रस्ता जो तेरी राह गुज़रने नहीं दिया

कितना अजीब मेरा बिखरना है दोस्तो
मैं ने कभी जो ख़ुद को बिखरने नहीं दिया

है इम्तिहान कौन सा सहरा-ए-ज़िंदगी
अब तक जो तेरे ख़ाक-बसर ने नहीं दिया

यारो 'अमीर' इमाम भी इक आफ़्ताब था
पर उस को तीरगी ने उभरने नहीं दिया

- Ameer Imam
1 Like

Qabr Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ameer Imam

As you were reading Shayari by Ameer Imam

Similar Writers

our suggestion based on Ameer Imam

Similar Moods

As you were reading Qabr Shayari Shayari