ye kisi shakhs ko khone ki talaafi thehra | ये किसी शख़्स को खोने की तलाफ़ी ठहरा - Ameer Imam

ye kisi shakhs ko khone ki talaafi thehra
mera hona mere hone mein izafi thehra

jurm-e-aadam tiri paadaash thi duniya saari
aakhirsh har koi haqdaar-e-mua'fi thehra

ye hai tafseel ki yak-lamha-e-hairat tha koi
mukhtasar ye ki meri umr ko kaafi thehra

kuchh ayaan ho na saka tha tiri aankhon jaisa
vo badan ho ke barhana bhi ghilaafi thehra

jab zameen ghoom rahi ho to theharna kaisa
koi thehra to thehrne ke munaafi thehra

qaafiya milte gaye umr ghazal hoti gai
aur chehra tira buniyaad-e-qawaafi thehra

ये किसी शख़्स को खोने की तलाफ़ी ठहरा
मेरा होना मिरे होने में इज़ाफ़ी ठहरा

जुर्म-ए-आदम तिरी पादाश थी दुनिया सारी
आख़िरश हर कोई हक़दार-ए-मुआ'फ़ी ठहरा

ये है तफ़्सील कि यक-लम्हा-ए-हैरत था कोई
मुख़्तसर ये कि मिरी उम्र को काफ़ी ठहरा

कुछ अयाँ हो न सका था तिरी आँखों जैसा
वो बदन हो के बरहना भी ग़िलाफ़ी ठहरा

जब ज़मीं घूम रही हो तो ठहरना कैसा
कोई ठहरा तो ठहरने के मुनाफ़ी ठहरा

क़ाफ़िया मिलते गए उम्र ग़ज़ल होती गई
और चेहरा तिरा बुनियाद-ए-क़वाफ़ी ठहरा

- Ameer Imam
1 Like

Chehra Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ameer Imam

As you were reading Shayari by Ameer Imam

Similar Writers

our suggestion based on Ameer Imam

Similar Moods

As you were reading Chehra Shayari Shayari