khud ko har aarzoo ke us paar kar liya hai | ख़ुद को हर आरज़ू के उस पार कर लिया है - Ameer Imam

khud ko har aarzoo ke us paar kar liya hai
ham ne ab us ka saaya deewaar kar liya hai

jaati thi mere dil se jo tere aastaan tak
duniya ne us gali mein bazaar kar liya hai

de daad aa ke baahar shah-e-rag se khun hamaara
us ne jo apna chehra gulnaar kar liya hai

bas chashm-e-khun-fishan ko milte nahin hain aansu
warna tira murakkab taiyyaar kar liya hai

hai vajh-e-kaj-kulaahi tauq-e-guloo hamaara
zanjeer-e-paa ko apni talwaar kar liya hai

mehsoos kar raha hoon khaaron mein qaid khushboo
aankhon ko teri jaanib ik baar kar liya hai

is baar vo bhi ham se inkaar kar na paaya
ham ne bhi ab ki us se iqaar kar liya hai

ख़ुद को हर आरज़ू के उस पार कर लिया है
हम ने अब उस का साया दीवार कर लिया है

जाती थी मेरे दिल से जो तेरे आस्ताँ तक
दुनिया ने उस गली में बाज़ार कर लिया है

दे दाद आ के बाहर शह-ए-रग से ख़ूँ हमारा
उस ने जो अपना चेहरा गुलनार कर लिया है

बस चश्म-ए-ख़ूँ-फ़िशाँ को मिलते नहीं हैं आँसू
वर्ना तिरा मुरक्कब तय्यार कर लिया है

है वज्ह-ए-कज-कुलाही तौक़-ए-गुलू हमारा
ज़ंजीर-ए-पा को अपनी तलवार कर लिया है

महसूस कर रहा हूँ ख़ारों में क़ैद ख़ुशबू
आँखों को तेरी जानिब इक बार कर लिया है

इस बार वो भी हम से इंकार कर न पाया
हम ने भी अब की उस से इक़रार कर लिया है

- Ameer Imam
2 Likes

Ehsaas Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ameer Imam

As you were reading Shayari by Ameer Imam

Similar Writers

our suggestion based on Ameer Imam

Similar Moods

As you were reading Ehsaas Shayari Shayari