shamsheer hai sinaan hai kise doon kise na doon | शमशीर है सिनाँ है किसे दूँ किसे न दूँ - Ameer Minai

shamsheer hai sinaan hai kise doon kise na doon
ik jaan-e-na-tawaan hai kise doon kise na doon

mehmaan idhar huma hai udhar hai sag-e-habeeb
ik musht ustukhaan hai kise doon kise na doon

darbaan hazaar us ke yahan ek naqd-e-jaan
maal is qadar kahaan hai kise doon kise na doon

bulbul ko bhi hai phoolon ki gulchein ko bhi talab
hairaan baagbaan hai kise doon kise na doon

sab chahte hain us se jo vaada visaal ka
kehta hai vo zabaan hai kise doon kise na doon

shehzaadi dukht-e-raz ke hazaaron hain khwaast-gaar
chup murshid-e-mugaan hai kise doon kise na doon

yaaron ko bhi hai bose ki ghairoon ko bhi talab
shashdar vo jaan-e-jaan hai kise doon kise na doon

dil mujh se maangte hain hazaaron haseen ameer
kitna ye armugaan hai kise doon kise na doon

शमशीर है सिनाँ है किसे दूँ किसे न दूँ
इक जान-ए-ना-तवाँ है किसे दूँ किसे न दूँ

मेहमान इधर हुमा है उधर है सग-ए-हबीब
इक मुश्त उस्तुखाँ है किसे दूँ किसे न दूँ

दरबाँ हज़ार उस के यहाँ एक नक़्द-ए-जाँ
माल इस क़दर कहाँ है किसे दूँ किसे न दूँ

बुलबुल को भी है फूलों की गुलचीं को भी तलब
हैरान बाग़बाँ है किसे दूँ किसे न दूँ

सब चाहते हैं उस से जो वादा विसाल का
कहता है वो ज़बाँ है किसे दूँ किसे न दूँ

शहज़ादी दुख़्त-ए-रज़ के हज़ारों हैं ख़्वास्त-गार
चुप मुर्शिद-ए-मुग़ाँ है किसे दूँ किसे न दूँ

यारों को भी है बोसे की ग़ैरों को भी तलब
शश्दर वो जान-ए-जाँ है किसे दूँ किसे न दूँ

दिल मुझ से माँगते हैं हज़ारों हसीं 'अमीर'
कितना ये अरमुग़ाँ है किसे दूँ किसे न दूँ

- Ameer Minai
0 Likes

Wada Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ameer Minai

As you were reading Shayari by Ameer Minai

Similar Writers

our suggestion based on Ameer Minai

Similar Moods

As you were reading Wada Shayari Shayari