lab par un ka naam nahin hai | लब पर उन का नाम नहीं है - Anwar Taban

lab par un ka naam nahin hai
chain nahin aaraam nahin hai

laakh bachao mujh se daaman
meri mohabbat khaam nahin hai

dil hai pareshaan un ki khaatir
pal bhar ko aaraam nahin hai

meri mohabbat un par kaamil
ishq mera naakaam nahin hai

mushkil hai har koi dekhe
us ka jalwa aam nahin hai

paikar-e-ulfat hoon main taabaan
nafrat mera kaam nahin hai

लब पर उन का नाम नहीं है
चैन नहीं आराम नहीं है

लाख बचाओ मुझ से दामन
मेरी मोहब्बत ख़ाम नहीं है

दिल है परेशाँ उन की ख़ातिर
पल भर को आराम नहीं है

मेरी मोहब्बत उन पर कामिल
इश्क़ मिरा नाकाम नहीं है

मुश्किल है हर कोई देखे
उस का जल्वा आम नहीं है

पैकर-ए-उल्फ़त हूँ मैं 'ताबाँ'
नफ़रत मेरा काम नहीं है

- Anwar Taban
0 Likes

Ishq Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Anwar Taban

As you were reading Shayari by Anwar Taban

Similar Writers

our suggestion based on Anwar Taban

Similar Moods

As you were reading Ishq Shayari Shayari