wafa ka meri kya sila deejiyega | वफ़ा का मिरी क्या सिला दीजिएगा - Anwar Taban

wafa ka meri kya sila deejiyega
gham-e-dil ki lazzat badha deejiyega

mujhe dekh kar muskuraa deejiyega
yoonhi meri hasti mita deejiyega

sila dil lagaane ka kya deejiyega
sitam deejiyega saza deejiyega

sukoon ki talab mujh ko hargiz nahin hai
bas ik dard ka silsila deejiyega

khushi baantne ke nahin aap qaail
to gham hi mujhe kuch siva deejiyega

mujhe kya khabar thi ki khud lauh-e-dil par
mera naam likh kar mita deejiyega

sukoon qalb ko jis se mil jaaye taabaan
ghazal koi aisi suna deejiyega

वफ़ा का मिरी क्या सिला दीजिएगा
ग़म-ए-दिल की लज़्ज़त बढ़ा दीजिएगा

मुझे देख कर मुस्कुरा दीजिएगा
यूँही मेरी हस्ती मिटा दीजिएगा

सिला दिल लगाने का क्या दीजिएगा
सितम दीजिएगा सज़ा दीजिएगा

सुकूँ की तलब मुझ को हरगिज़ नहीं है
बस इक दर्द का सिलसिला दीजिएगा

ख़ुशी बाँटने के नहीं आप क़ाइल
तो ग़म ही मुझे कुछ सिवा दीजिएगा

मुझे क्या ख़बर थी कि ख़ुद लौह-ए-दिल पर
मिरा नाम लिख कर मिटा दीजिएगा

सुकून क़ल्ब को जिस से मिल जाए 'ताबाँ'
ग़ज़ल कोई ऐसी सुना दीजिएगा

- Anwar Taban
0 Likes

Ghayal Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Anwar Taban

As you were reading Shayari by Anwar Taban

Similar Writers

our suggestion based on Anwar Taban

Similar Moods

As you were reading Ghayal Shayari Shayari