kya kuchh na kiya aur hain kya kuchh nahin karte | क्या कुछ न किया और हैं क्या कुछ नहीं करते - Bahadur Shah Zafar

kya kuchh na kiya aur hain kya kuchh nahin karte
kuchh karte hain aisa b-khuda kuchh nahin karte

apne marz-e-gham ka hakeem aur koi hai
ham aur tabeebon ki dava kuchh nahin karte

maaloom nahin ham se hijaab un ko hai kaisa
auron se to vo sharm o haya kuchh nahin karte

go karte hain zaahir ko safa ahl-e-kudurat
par dil ko nahin karte safa kuchh nahin karte

vo dilbari ab tak meri kuchh karte hain lekin
taaseer tire naale dila kuchh nahin karte

dil ham ne diya tha tujhe ummeed-e-wafa par
tum ham se nahin karte wafa kuchh nahin karte

karte hain vo is tarah zafar dil pe jafaaen
zaahir mein ye jaano ki jafaa kuchh nahin karte

क्या कुछ न किया और हैं क्या कुछ नहीं करते
कुछ करते हैं ऐसा ब-ख़ुदा कुछ नहीं करते

अपने मरज़-ए-ग़म का हकीम और कोई है
हम और तबीबों की दवा कुछ नहीं करते

मालूम नहीं हम से हिजाब उन को है कैसा
औरों से तो वो शर्म ओ हया कुछ नहीं करते

गो करते हैं ज़ाहिर को सफ़ा अहल-ए-कुदूरत
पर दिल को नहीं करते सफ़ा कुछ नहीं करते

वो दिलबरी अब तक मिरी कुछ करते हैं लेकिन
तासीर तिरे नाले दिला कुछ नहीं करते

दिल हम ने दिया था तुझे उम्मीद-ए-वफ़ा पर
तुम हम से नहीं करते वफ़ा कुछ नहीं करते

करते हैं वो इस तरह 'ज़फ़र' दिल पे जफ़ाएँ
ज़ाहिर में ये जानो कि जफ़ा कुछ नहीं करते

- Bahadur Shah Zafar
0 Likes

Naqab Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Bahadur Shah Zafar

As you were reading Shayari by Bahadur Shah Zafar

Similar Writers

our suggestion based on Bahadur Shah Zafar

Similar Moods

As you were reading Naqab Shayari Shayari