zulf jo rukh par tire ai mehr-e-tal'at khul gai | ज़ुल्फ़ जो रुख़ पर तिरे ऐ मेहर-ए-तलअत खुल गई - Bahadur Shah Zafar

zulf jo rukh par tire ai mehr-e-tal'at khul gai
ham ko apni teera-rozi ki haqeeqat khul gai

kya tamasha hai rag-e-laila mein dooba neshtar
fasd-e-majnoon bais-e-josh-e-mohabbat khul gai

dil ka sauda ik nigaah par hai tiri thehra hua
narkh tu kya poochta hai ab to qeemat khul gai

aaine ko naaz tha kya apne roo-e-saaf par
aankh hi par dekhte hi teri soorat khul gai

thi aseeraan-e-qafas ko aarzoo parvaaz ki
khul gai khidki qafas ki kya ki qismat khul gai

tere aariz par hua aakhir ghubaar-e-khat numood
khul gai aaina-roo dil ki kudoorat khul gai

be-takalluf aaye tum khole hue band-e-qaba
ab girah dil ki hamaare fil-haqeeqat khul gai

baandhi zaahid ne tawakkul par kamar sau baar chust
lekin aakhir bais-e-susti-e-himmat khul gai

khulte khulte ruk gaye vo un ko tu ne ai zafar
sach kaho kis aankh se dekha ki chaahat khul gai

ज़ुल्फ़ जो रुख़ पर तिरे ऐ मेहर-ए-तलअत खुल गई
हम को अपनी तीरा-रोज़ी की हक़ीक़त खुल गई

क्या तमाशा है रग-ए-लैला में डूबा नेश्तर
फ़स्द-ए-मजनूँ बाइस-ए-जोश-ए-मोहब्बत खुल गई

दिल का सौदा इक निगह पर है तिरी ठहरा हुआ
नर्ख़ तू क्या पूछता है अब तो क़ीमत खुल गई

आईने को नाज़ था क्या अपने रू-ए-साफ़ पर
आँख ही पर देखते ही तेरी सूरत खुल गई

थी असीरान-ए-क़फ़स को आरज़ू परवाज़ की
खुल गई खिड़की क़फ़स की क्या कि क़िस्मत खुल गई

तेरे आरिज़ पर हुआ आख़िर ग़ुबार-ए-ख़त नुमूद
खुल गई आईना-रू दिल की कुदूरत खुल गई

बे-तकल्लुफ़ आए तुम खोले हुए बंद-ए-क़बा
अब गिरह दिल की हमारे फ़िल-हक़ीक़त खुल गई

बाँधी ज़ाहिद ने तवक्कुल पर कमर सौ बार चुस्त
लेकिन आख़िर बाइस-ए-सुस्ती-ए-हिम्मत खुल गई

खुलते खुलते रुक गए वो उन को तू ने ऐ 'ज़फ़र'
सच कहो किस आँख से देखा कि चाहत खुल गई

- Bahadur Shah Zafar
1 Like

Mahatma Gandhi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Bahadur Shah Zafar

As you were reading Shayari by Bahadur Shah Zafar

Similar Writers

our suggestion based on Bahadur Shah Zafar

Similar Moods

As you were reading Mahatma Gandhi Shayari Shayari