jab raat ki tanhaai dil ban ke dhadkati hai | जब रात की तन्हाई दिल बन के धड़कती है - Bashir Badr

jab raat ki tanhaai dil ban ke dhadkati hai
yaadon ke dareechon mein chilman si sarkati hai

loban mein chingaari jaise koi rakh jaaye
yun yaad tiri shab bhar seene mein sulagti hai

yun pyaar nahin chhupta palkon ke jhukaane se
aankhon ke lifaafon mein tahreer chamakti hai

khush-rang parindon ke laut aane ke din aaye
bichhde hue milte hain jab barf pighalti hai

shohrat ki bulandi bhi pal bhar ka tamasha hai
jis daal pe baithe ho vo toot bhi sakti hai

जब रात की तन्हाई दिल बन के धड़कती है
यादों के दरीचों में चिलमन सी सरकती है

लोबान में चिंगारी जैसे कोई रख जाए
यूँ याद तिरी शब भर सीने में सुलगती है

यूँ प्यार नहीं छुपता पलकों के झुकाने से
आँखों के लिफ़ाफ़ों में तहरीर चमकती है

ख़ुश-रंग परिंदों के लौट आने के दिन आए
बिछड़े हुए मिलते हैं जब बर्फ़ पिघलती है

शोहरत की बुलंदी भी पल भर का तमाशा है
जिस डाल पे बैठे हो वो टूट भी सकती है

- Bashir Badr
6 Likes

Shohrat Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Bashir Badr

As you were reading Shayari by Bashir Badr

Similar Writers

our suggestion based on Bashir Badr

Similar Moods

As you were reading Shohrat Shayari Shayari