jin dinon gham ziyaada hota hai | जिन दिनों ग़म ज़ियादा होता है - Basir Sultan Kazmi

jin dinon gham ziyaada hota hai
aankh mein nam ziyaada hota hai

dard dil ka bhi koi theek nahin
khud-bakhud kam ziyaada hota hai

kuchh to hassaas ham ziyaada hain
kuchh vo barham ziyaada hota hai

sab se pehle unhen jhukaate hain
jin mein dam-kham ziyaada hota hai

qais par zulm to hua baasir
phir bhi maatam ziyaada hota hai

जिन दिनों ग़म ज़ियादा होता है
आँख में नम ज़ियादा होता है

दर्द दिल का भी कोई ठीक नहीं
ख़ुद-बख़ुद कम ज़ियादा होता है

कुछ तो हस्सास हम ज़ियादा हैं
कुछ वो बरहम ज़ियादा होता है

सब से पहले उन्हें झुकाते हैं
जिन में दम-ख़म ज़ियादा होता है

क़ैस पर ज़ुल्म तो हुआ 'बासिर'
फिर भी मातम ज़ियादा होता है

- Basir Sultan Kazmi
0 Likes

Jafa Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Basir Sultan Kazmi

As you were reading Shayari by Basir Sultan Kazmi

Similar Writers

our suggestion based on Basir Sultan Kazmi

Similar Moods

As you were reading Jafa Shayari Shayari