tumhaari rooh ko | तुम्हारी रूह को - KAPIL DEV

tumhaari rooh ko
choone ki tamannaa hai mujhe
tumhaare jism ki
sarhad se paar jaana hai

tumhaari aankh ke aansuon se
aankh apni bhigoni hai
tumhaare dard ko apne
dil pe pahanna hai mujhe
apni khushi tumhaare
kaan ki baaliyon mein pironi hai

tumhaari hasi ke gehre
samundron mein doobna hai
udaasi ke har pairhan
ko utaar jaana hai

tumhaari rooh ko
choone ki tamannaa hai mujhe
tumhaare jism ki
sarhad se paar jaana hai

तुम्हारी रूह को
छूने की तमन्ना है मुझे
तुम्हारे जिस्म की
सरहद से पार जाना है

तुम्हारी आंख के आंसुओं से
आंख अपनी भिगोनी है
तुम्हारे दर्द को अपने
दिल पे पहनना है मुझे
अपनी खुशी तुम्हारे
कान की बालियों में पिरोनी है

तुम्हारी हंसी के गहरे
समुंदरों में डूबना है
उदासी के हर पैरहन
को उतार जाना है।

तुम्हारी रूह को
छूने की तमन्ना है मुझे
तुम्हारे जिस्म की
सरहद से पार जाना है

- KAPIL DEV
6 Likes

Aankhein Shayari

Our suggestion based on your choice

Similar Writers

our suggestion based on KAPIL DEV

Similar Moods

As you were reading Aankhein Shayari Shayari