khud apni aag mein saare charaagh jalte hain | ख़ुद अपनी आग में सारे चराग़ जलते हैं - Dilawar Ali Aazar

khud apni aag mein saare charaagh jalte hain
ye kis hawa se hamaare charaagh jalte hain

jahaan utarta hai vo mahtaab paani mein
wahin kinaare kinaare charaagh jalte hain

tamaam raushni suraj se musta'ar nahin
kahi kahi to hamaare charaagh jalte hain

tumhaara aks hai ya aftaab ka partav
ye khaal-o-khud hain ki pyaare charaagh jalte hain

ajeeb raat utaari gai mohabbat par
hamaari aankhen tumhaare charaagh jalte hain

meri nigaah se raushan nigaar-khaana-e-husn
mere lahu ke sahaare charaagh jalte hain

na jaane kaun si manzil hai muntazir aazar
ki raahguzaar mein sitaare charaagh jalte hain

ख़ुद अपनी आग में सारे चराग़ जलते हैं
ये किस हवा से हमारे चराग़ जलते हैं

जहाँ उतरता है वो माहताब पानी में
वहीं किनारे किनारे चराग़ जलते हैं

तमाम रौशनी सूरज से मुस्तआ'र नहीं
कहीं कहीं तो हमारे चराग़ जलते हैं

तुम्हारा अक्स है या आफ़्ताब का परतव
ये ख़ाल-ओ-ख़द हैं कि प्यारे चराग़ जलते हैं

अजीब रात उतारी गई मोहब्बत पर
हमारी आँखें तुम्हारे चराग़ जलते हैं

मिरी निगाह से रौशन निगार-खाना-ए-हुस्न
मिरे लहू के सहारे चराग़ जलते हैं

न जाने कौन सी मंज़िल है मुंतज़िर 'आज़र'
कि रहगुज़र में सितारे चराग़ जलते हैं

- Dilawar Ali Aazar
0 Likes

Paani Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Dilawar Ali Aazar

As you were reading Shayari by Dilawar Ali Aazar

Similar Writers

our suggestion based on Dilawar Ali Aazar

Similar Moods

As you were reading Paani Shayari Shayari