hone lagi hai jism mein jumbish to dekhiye | होने लगी है जिस्म में जुम्बिश तो देखिए - Dushyant Kumar

hone lagi hai jism mein jumbish to dekhiye
is par kate parinde ki koshish to dekhiye

goonge nikal pade hain zabaan ki talash mein
sarkaar ke khilaaf ye saazish to dekhiye

barsaat aa gai to darkane lagi zameen
sookha macha rahi hai ye baarish to dekhiye

un ki apeel hai ki unhen ham madad karein
chaakoo ki pasliyon se guzarish to dekhiye

jis ne nazar uthaai wahi shakhs gum hua
is jism ke tilism ki bandish to dekhiye

होने लगी है जिस्म में जुम्बिश तो देखिए
इस पर कटे परिंदे की कोशिश तो देखिए

गूँगे निकल पड़े हैं ज़बाँ की तलाश में
सरकार के ख़िलाफ़ ये साज़िश तो देखिए

बरसात आ गई तो दरकने लगी ज़मीन
सूखा मचा रही है ये बारिश तो देखिए

उन की अपील है कि उन्हें हम मदद करें
चाक़ू की पसलियों से गुज़ारिश तो देखिए

जिस ने नज़र उठाई वही शख़्स गुम हुआ
इस जिस्म के तिलिस्म की बंदिश तो देखिए

- Dushyant Kumar
5 Likes

Qaid Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Dushyant Kumar

As you were reading Shayari by Dushyant Kumar

Similar Writers

our suggestion based on Dushyant Kumar

Similar Moods

As you were reading Qaid Shayari Shayari