roz jab raat ko baarah ka gajr hota hai | रोज़ जब रात को बारह का गजर होता है - Dushyant Kumar

roz jab raat ko baarah ka gajr hota hai
yaatanaaon ke andhere mein safar hota hai

koi rahne ki jagah hai mere sapnon ke liye
vo gharaunda hi sahi mitti ka bhi ghar hota hai

sir se seene mein kabhi pet se paanv mein kabhi
ik jagah ho to kahein dard idhar hota hai

aisa lagta hai ki ud kar bhi kahaan pahunchege
haath mein jab koi toota hua par hota hai

sair ke vaaste sadkon pe nikal aate the
ab to aakaash se pathraav ka dar hota hai

रोज़ जब रात को बारह का गजर होता है
यातनाओं के अँधेरे में सफ़र होता है

कोई रहने की जगह है मिरे सपनों के लिए
वो घरौंदा ही सही मिट्टी का भी घर होता है

सिर से सीने में कभी पेट से पाँव में कभी
इक जगह हो तो कहें दर्द इधर होता है

ऐसा लगता है कि उड़ कर भी कहाँ पहुँचेंगे
हाथ में जब कोई टूटा हुआ पर होता है

सैर के वास्ते सड़कों पे निकल आते थे
अब तो आकाश से पथराव का डर होता है

- Dushyant Kumar
4 Likes

Safar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Dushyant Kumar

As you were reading Shayari by Dushyant Kumar

Similar Writers

our suggestion based on Dushyant Kumar

Similar Moods

As you were reading Safar Shayari Shayari