mujh ko ye fikr kab hai ki saaya kahaan gaya | मुझ को ये फ़िक्र कब है कि साया कहाँ गया - Faisal Ajmi

mujh ko ye fikr kab hai ki saaya kahaan gaya
suraj ko ro raha hoon khudaaya kahaan gaya

phir aaine mein khoon dikhaai diya mujhe
aankhon mein aa gaya to chhupaaya kahaan gaya

awaaz de raha tha koi mujh ko khwaab mein
lekin khabar nahin ki bulaaya kahaan gaya

kitne charaagh ghar mein jalaae gaye na pooch
ghar aap jal gaya hai jalaya kahaan gaya

ye bhi khabar nahin hai ki hamraah kaun hai
poocha kahaan gaya hai bataaya kahaan gaya

vo bhi badal gaya hai mujhe chhodne ke baad
mujh se bhi apne aap mein aaya kahaan gaya

tujh ko ganwa diya hai magar apne aap ko
barbaad kar diya hai ganwaaya kahaan gaya

मुझ को ये फ़िक्र कब है कि साया कहाँ गया
सूरज को रो रहा हूँ ख़ुदाया कहाँ गया

फिर आइने में ख़ून दिखाई दिया मुझे
आँखों में आ गया तो छुपाया कहाँ गया

आवाज़ दे रहा था कोई मुझ को ख़्वाब में
लेकिन ख़बर नहीं कि बुलाया कहाँ गया

कितने चराग़ घर में जलाए गए न पूछ
घर आप जल गया है जलाया कहाँ गया

ये भी ख़बर नहीं है कि हमराह कौन है
पूछा कहाँ गया है बताया कहाँ गया

वो भी बदल गया है मुझे छोड़ने के बाद
मुझ से भी अपने आप में आया कहाँ गया

तुझ को गँवा दिया है मगर अपने आप को
बर्बाद कर दिया है गँवाया कहाँ गया

- Faisal Ajmi
0 Likes

Akhbaar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Faisal Ajmi

As you were reading Shayari by Faisal Ajmi

Similar Writers

our suggestion based on Faisal Ajmi

Similar Moods

As you were reading Akhbaar Shayari Shayari