ye bhi nahin ki dast-e-dua tak nahin gaya | ये भी नहीं कि दस्त-ए-दुआ तक नहीं गया - Faisal Ajmi

ye bhi nahin ki dast-e-dua tak nahin gaya
mera sawaal khalk-e-khuda tak nahin gaya

phir yun hua ki haath se kashkol gir pada
khairaat le ke mujh se chala tak nahin gaya

masloob ho raha tha magar hans raha tha main
aankhon mein ashk le ke khuda tak nahin gaya

jo barf gir rahi thi mere sar ke aas-paas
kya likh rahi thi mujh se padha tak nahin gaya

faisal mukaalima tha hawaon ka phool se
vo shor tha ki mujh se suna tak nahin gaya

ये भी नहीं कि दस्त-ए-दुआ तक नहीं गया
मेरा सवाल ख़ल्क़-ए-ख़ुदा तक नहीं गया

फिर यूँ हुआ कि हाथ से कश्कोल गिर पड़ा
ख़ैरात ले के मुझ से चला तक नहीं गया

मस्लूब हो रहा था मगर हँस रहा था मैं
आँखों में अश्क ले के ख़ुदा तक नहीं गया

जो बर्फ़ गिर रही थी मिरे सर के आस-पास
क्या लिख रही थी मुझ से पढ़ा तक नहीं गया

'फ़ैसल' मुकालिमा था हवाओं का फूल से
वो शोर था कि मुझ से सुना तक नहीं गया

- Faisal Ajmi
0 Likes

Masti Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Faisal Ajmi

As you were reading Shayari by Faisal Ajmi

Similar Writers

our suggestion based on Faisal Ajmi

Similar Moods

As you were reading Masti Shayari Shayari