ik yahi raushni raushni imkaan mein hai | इक यही रौशनी रौशनी इम्कान में है - Farhat Abbas Shah

ik yahi raushni raushni imkaan mein hai
tu abhi tak dil-e-veeraan mein hai

shor barpa hai tiri yaadon ka
raunaq-e-hijr bayaabaan mein hai

pyaar aur zindagi se lagta hai
koi zinda-dili be-jaan mein hai

aaj bhi tere badan ki khushboo
tere bheje hue gul-daan mein hai

zindagi bhi hai meri aankhon mein
maut bhi deeda-e-hairaana mein hai

dil abhi nikla nahin seene se
ek qaaidi abhi zindaan mein hai

इक यही रौशनी रौशनी इम्कान में है
तू अभी तक दिल-ए-वीरान में है

शोर बरपा है तिरी यादों का
रौनक़-ए-हिज्र बयाबान में है

प्यार और ज़िंदगी से लगता है
कोई ज़िंदा-दिली बे-जान में है

आज भी तेरे बदन की ख़ुश्बू
तेरे भेजे हुए गुल-दान में है

ज़िंदगी भी है मिरी आँखों में
मौत भी दीदा-ए-हैरान में है

दिल अभी निकला नहीं सीने से
एक क़ैदी अभी ज़िंदान में है

- Farhat Abbas Shah
0 Likes

Ujaala Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Farhat Abbas Shah

As you were reading Shayari by Farhat Abbas Shah

Similar Writers

our suggestion based on Farhat Abbas Shah

Similar Moods

As you were reading Ujaala Shayari Shayari