phool ki sukh ki saba ki zindagi | फूल की सुख की सबा की ज़िंदगी - Farhat Abbas Shah

phool ki sukh ki saba ki zindagi
mukhtasar hai kyun wafa ki zindagi

kis ne dekha hai khuda ki maut ko
kis ne dekhi hai khuda ki zindagi

haath paanv maarna be-kaar hai
jee rahe hain ham khala ki zindagi

baarha bhi maut se hai saamna
aazma li baarha ki zindagi

dard sahne ka alag andaaz hai
jee rahe hain ham ada ki zindagi

chahe jungle hon ya sehra ya nagar
asl mein tu hai hawa ki zindagi

फूल की सुख की सबा की ज़िंदगी
मुख़्तसर है क्यूँ वफ़ा की ज़िंदगी

किस ने देखा है ख़ुदा की मौत को
किस ने देखी है ख़ुदा की ज़िंदगी

हाथ पाँव मारना बे-कार है
जी रहे हैं हम ख़ला की ज़िंदगी

बारहा भी मौत से है सामना
आज़मा ली बारहा की ज़िंदगी

दर्द सहने का अलग अंदाज़ है
जी रहे हैं हम अदा की ज़िंदगी

चाहे जंगल हों या सहरा या नगर
अस्ल में तू है हवा की ज़िंदगी

- Farhat Abbas Shah
1 Like

Jalwa Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Farhat Abbas Shah

As you were reading Shayari by Farhat Abbas Shah

Similar Writers

our suggestion based on Farhat Abbas Shah

Similar Moods

As you were reading Jalwa Shayari Shayari