shaam-e-gham kuch us nigaah-e-naaz ki baatein karo | शाम-ए-ग़म कुछ उस निगाह-ए-नाज़ की बातें करो - Firaq Gorakhpuri

shaam-e-gham kuch us nigaah-e-naaz ki baatein karo
be-khudi badhti chali hai raaz ki baatein karo

ye sukoot-e-naaz ye dil ki ragon ka tootna
khaamoshi mein kuch shikast-e-saaz ki baatein karo

nikhat-e-zulf-e-pareshaan daastaan-e-shaam-e-gham
subh hone tak isee andaaz ki baatein karo

har rag-e-dil vajd mein aati rahe dukhti rahe
yoonhi us ke jaa-o-beja naaz ki baatein karo

jau adam ki jaan hai jo hai paayam-e-zindagi
us sukoot-e-raaz us awaaz ki baatein karo

ishq rusva ho chala be-kaif sa bezaar sa
aaj us ki nargis-e-ghammaaz ki baatein karo

naam bhi lena hai jis ka ik jahaan-e-rang-o-boo
dosto us nau-bahaar-e-naaz ki baatein karo

kis liye uzr-e-taghaful kis liye ilzaam-e-ishq
aaj charkh-e-tafarqa-parvaaz ki baatein karo

kuch qafas ki teeliyon se chan raha hai noor sa
kuch fazaa kuch hasrat-e-parvaaz ki baatein karo

jo hayaat-e-jaavidaan hai jo hai marg-e-na-gahaan
aaj kuch us naaz us andaaz ki baatein karo

ishq-e-be-parwa bhi ab kuch na-shakeba ho chala
shokhi-e-husn-e-karishma-saaz ki baatein karo

jis ki furqat ne palat di ishq ki kaaya firaq
aaj us eesa-nafs dam-saaz ki baatein karo

शाम-ए-ग़म कुछ उस निगाह-ए-नाज़ की बातें करो
बे-ख़ुदी बढ़ती चली है राज़ की बातें करो

ये सुकूत-ए-नाज़ ये दिल की रगों का टूटना
ख़ामुशी में कुछ शिकस्त-ए-साज़ की बातें करो

निकहत-ए-ज़ुल्फ़-ए-परेशाँ दास्तान-ए-शाम-ए-ग़म
सुब्ह होने तक इसी अंदाज़ की बातें करो

हर रग-ए-दिल वज्द में आती रहे दुखती रहे
यूँही उस के जा-ओ-बेजा नाज़ की बातें करो

जौ अदम की जान है जो है पयाम-ए-ज़िंदगी
उस सुकूत-ए-राज़ उस आवाज़ की बातें करो

इश्क़ रुस्वा हो चला बे-कैफ़ सा बेज़ार सा
आज उस की नर्गिस-ए-ग़म्माज़ की बातें करो

नाम भी लेना है जिस का इक जहान-ए-रंग-ओ-बू
दोस्तो उस नौ-बहार-ए-नाज़ की बातें करो

किस लिए उज़्र-ए-तग़ाफुल किस लिए इल्ज़ाम-ए-इश्क़
आज चर्ख़-ए-तफ़रक़ा-पर्वाज़ की बातें करो

कुछ क़फ़स की तीलियों से छन रहा है नूर सा
कुछ फ़ज़ा कुछ हसरत-ए-परवाज़ की बातें करो

जो हयात-ए-जाविदाँ है जो है मर्ग-ए-ना-गहाँ
आज कुछ उस नाज़ उस अंदाज़ की बातें करो

इश्क़-ए-बे-परवा भी अब कुछ ना-शकेबा हो चला
शोख़ी-ए-हुस्न-ए-करिश्मा-साज़ की बातें करो

जिस की फ़ुर्क़त ने पलट दी इश्क़ की काया 'फ़िराक़'
आज उस ईसा-नफ़स दम-साज़ की बातें करो

- Firaq Gorakhpuri
1 Like

Charagh Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Firaq Gorakhpuri

As you were reading Shayari by Firaq Gorakhpuri

Similar Writers

our suggestion based on Firaq Gorakhpuri

Similar Moods

As you were reading Charagh Shayari Shayari