raushan jamaal-e-yaar se hai anjuman tamaam | रौशन जमाल-ए-यार से है अंजुमन तमाम - Hasrat Mohani

raushan jamaal-e-yaar se hai anjuman tamaam
dahka hua hai aatish-e-gul se chaman tamaam

hairat ghuroor-e-husn se shokhi se iztiraab
dil ne bhi tere seekh liye hain chalan tamaam

allah-ree jism-e-yaar ki khoobi ki khud-b-khud
rangeeniyon mein doob gaya pairhan tamaam

dil khoon ho chuka hai jigar ho chuka hai khaak
baaki hoon main mujhe bhi kar ai tegh-zan tamaam

dekho to chashm-e-yaar ki jadoo-nigaahiyaan
behosh ik nazar mein hui anjuman tamaam

hai naaz-e-husn se jo farozaan jabeen-e-yaar
labreiz aab-e-noor hai chaah-e-zaqqan tamaam

nash-o-numa-e-sabza-o-gul se bahaar mein
shaadaabiyon ne gher liya hai chaman tamaam

us naazneen ne jab se kiya hai wahan qayaam
gulzaar ban gai hai zameen-e-dakan tamaam

achha hai ahl-e-jaur kiye jaayen sakhtiyan
failegi yun hi shorish-e-hubb-e-watan tamaam

samjhe hain ahl-e-sharq ko shaayad qareeb-e-marg
maghrib ke yun hain jama ye zaagh o zagan tamaam

sheerini-e-naseem hai soz-o-gadaaz-e-'meer
hasrat tire sukhun pe hai lutf-e-sukhan tamaam

रौशन जमाल-ए-यार से है अंजुमन तमाम
दहका हुआ है आतिश-ए-गुल से चमन तमाम

हैरत ग़ुरूर-ए-हुस्न से शोख़ी से इज़्तिराब
दिल ने भी तेरे सीख लिए हैं चलन तमाम

अल्लाह-री जिस्म-ए-यार की ख़ूबी कि ख़ुद-ब-ख़ुद
रंगीनियों में डूब गया पैरहन तमाम

दिल ख़ून हो चुका है जिगर हो चुका है ख़ाक
बाक़ी हूँ मैं मुझे भी कर ऐ तेग़-ज़न तमाम

देखो तो चश्म-ए-यार की जादू-निगाहियाँ
बेहोश इक नज़र में हुई अंजुमन तमाम

है नाज़-ए-हुस्न से जो फ़रोज़ाँ जबीन-ए-यार
लबरेज़ आब-ए-नूर है चाह-ए-ज़क़न तमाम

नश-ओ-नुमा-ए-सब्ज़ा-ओ-गुल से बहार में
शादाबियों ने घेर लिया है चमन तमाम

उस नाज़नीं ने जब से किया है वहाँ क़याम
गुलज़ार बन गई है ज़मीन-ए-दकन तमाम

अच्छा है अहल-ए-जौर किए जाएँ सख़्तियाँ
फैलेगी यूँ ही शोरिश-ए-हुब्ब-ए-वतन तमाम

समझे हैं अहल-ए-शर्क़ को शायद क़रीब-ए-मर्ग
मग़रिब के यूँ हैं जमा ये ज़ाग़ ओ ज़ग़न तमाम

शीरीनी-ए-नसीम है सोज़-ओ-गदाज़-ए-'मीर'
'हसरत' तिरे सुख़न पे है लुत्फ़-ए-सुख़न तमाम

- Hasrat Mohani
1 Like

Nazakat Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Hasrat Mohani

As you were reading Shayari by Hasrat Mohani

Similar Writers

our suggestion based on Hasrat Mohani

Similar Moods

As you were reading Nazakat Shayari Shayari