shaam se tanhaa khada hoon yaas ka paikar hoon main | शाम से तन्हा खड़ा हूँ यास का पैकर हूँ मैं - Iftikhar Naseem

shaam se tanhaa khada hoon yaas ka paikar hoon main
ajnabi hoon aur faseel-e-shehr se baahar hoon main

tu to aaya hai yahan par qahqahon ke vaaste
dekhne waale bada ghamgeen sa manzar hoon main

main bacha loonga tujhe duniya ke sard-o-garm se
dhanp le mujh se badan apna tiri chadar hoon main

ab to milte hain hawa se bhi dar-o-deewar-e-jism
baasiyo mujh se nikal jaao shikasta-ghar hoon main

main tumhein udte hue dekhoonga mere saathiyo
main tumhaara saath kaise doon shikasta-par hoon main

mere hone ka pata le lo dar-o-deewar se
kah raha hai ghar ka sannaata abhi andar hoon main

kaun dega ab yahan se teri dastak ka jawaab
kis liye mujh ko sada deta hai khaali ghar hoon main

शाम से तन्हा खड़ा हूँ यास का पैकर हूँ मैं
अजनबी हूँ और फ़सील-ए-शहर से बाहर हूँ मैं

तू तो आया है यहाँ पर क़हक़हों के वास्ते
देखने वाले बड़ा ग़मगीन सा मंज़र हूँ मैं

मैं बचा लूँगा तुझे दुनिया के सर्द-ओ-गर्म से
ढाँप ले मुझ से बदन अपना तिरी चादर हूँ मैं

अब तो मिलते हैं हवा से भी दर-ओ-दीवार-ए-जिस्म
बासियो मुझ से निकल जाओ शिकस्ता-घर हूँ मैं

मैं तुम्हें उड़ते हुए देखूँगा मेरे साथियो
मैं तुम्हारा साथ कैसे दूँ शिकस्ता-पर हूँ मैं

मेरे होने का पता ले लो दर-ओ-दीवार से
कह रहा है घर का सन्नाटा अभी अंदर हूँ मैं

कौन देगा अब यहाँ से तेरी दस्तक का जवाब
किस लिए मुझ को सदा देता है ख़ाली घर हूँ मैं

- Iftikhar Naseem
0 Likes

Shaam Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Iftikhar Naseem

As you were reading Shayari by Iftikhar Naseem

Similar Writers

our suggestion based on Iftikhar Naseem

Similar Moods

As you were reading Shaam Shayari Shayari