ye gham kya dil ki aadat hai nahin to | ये ग़म क्या दिल की आदत है? नहीं तो - Jaun Elia

ye gham kya dil ki aadat hai nahin to
kisi se kuch shikaayat hai nahin to

hai vo ik khwaab-e-be taabeer isko
bhula dene ki niyat hai nahin to

kisi ke bin kisi ki yaad ke bin
jiye jaane ki himmat hai nahin to

kisi soorat bhi dil lagta nahin haan
to kuch din se ye haalaat hai nahin to

tujhe jisne kahi ka bhi nahin rakha
vo ek jaati si vehshat hai nahin to

tere is haal par hai sab ko hairat
tujhe bhi is pe hairat hai nahin to

ham-aahangi nahin duniya se teri
tujhe is par nadaamat hai nahin to

vo darveshi jo taj kar aa gaya...tu
yah daulat us ki qeemat hai nahin to

hua jo kuch yahi maqsoom tha kya
yahi saari hikaayat hai nahin to

aziyat-naak ummeedon se tujhko
aman paane ki hasrat hai nahin to

tu rehta hai khyaal-o-khwaab mein gam
to is wajah se fursat hai nahin to

wahaan waalon se hai itni mohabbat
yahaan waalon se nafrat hai nahin to

sabab jo is judaai ka bana hai
vo mujhse khubsoorat hai nahin to

ये ग़म क्या दिल की आदत है? नहीं तो
किसी से कुछ शिकायत है? नहीं तो

है वो इक ख़्वाब-ए-बे ताबीर इसको
भुला देने की नीयत है? नहीं तो

किसी के बिन किसी की याद के बिन
जिए जाने की हिम्मत है? नहीं तो

किसी सूरत भी दिल लगता नहीं? हाँ
तो कुछ दिन से ये हालत है? नहीं तो

तुझे जिसने कहीं का भी नहीं रक्खा
वो इक ज़ाती सी वहशत है? नहीं तो

तेरे इस हाल पर है सब को हैरत
तुझे भी इस पे हैरत है? नहीं तो

हम-आहंगी नहीं दुनिया से तेरी
तुझे इस पर नदामत है? नहीं तो

वो दरवेशी जो तज कर आ गया तू
ये दौलत उस की क़ीमत है? नहीं तो

हुआ जो कुछ यही मक़सूम था क्या?
यही सारी हिकायत है? नहीं तो

अज़ीयत-नाक उम्मीदों से तुझको
अमाँ पाने की हसरत है? नहीं तो

तू रहता है ख़याल-ओ-ख़्वाब में गुम
तो इसकी वजह फ़ुर्सत है? नहीं तो

वहाँ वालों से है इतनी मोहब्बत
यहाँ वालों से नफ़रत है? नहीं तो

सबब जो इस जुदाई का बना है
वो मुझसे ख़ूबसूरत है? नहीं तो

- Jaun Elia
250 Likes

Yaad Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Jaun Elia

As you were reading Shayari by Jaun Elia

Similar Writers

our suggestion based on Jaun Elia

Similar Moods

As you were reading Yaad Shayari Shayari